कई सालों से जमुनहा बहराइच मार्ग बदहाल होने के कारण क्षेत्रवासियों ने किया धरना प्रदर्शन
September 19th, 2019 | Post by :- | 128 Views

श्रावस्ती,(नितिश कुमार तिवारी)

कई सालों से जमुनहा बहराइच मार्ग बदहाल होने के कारण क्षेत्रवासियों ने किया धरना प्रदर्शन

आज जमुनहा तहसील के चौराहे पर व्यापारियों ने दुकान बन्द करके ,सड़क जाम करके,भाजपा के कार्यकर्ताओं ने किया धरना प्रदर्शन उनकी मांगे क्षेत्रहित में हैं

एक साल पहले जमुनहा में एस. डी. एम. जमुनहा को ज्ञापन देकर कुछ मांगें मांगी गई थी उन्होंने आश्वासन देकर कहा कि मांग पूरी होगी अभी तक नही हुई जिसके बाद उन लोगों ने फिर एक साल बाद कदम उठाया है

उनका कहना है यह समस्या कोई पर्सनल समस्या नहीं है बल्कि क्षेत्र की समस्या है मुख्यमंत्री पद पर शपथ लेने के बाद माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जीने अपने भाषण में यह कहा था कि 100 दिन में गड्ढा मुक्त कर देंगे यूपी को उनका किया गया वादा गलत साबित हो रहा है

उनका कहना है कि पूरे प्रदेश में सबसे खराब सड़क श्रावस्ती की है यहां तक कि कोई गर्भवती महिला अगर अस्पताल जाती है तो उसकी डिलीवरी रास्ते में ही हो जाती है क्योंकि सड़क बदहाल होने के कारण समय पर नहीं पहुंच पाती अस्पताल

यहां तक कि रिश्तेदार भी आना छोड़ दिए हैं अगर अपने बहन बेटियों की रिश्ता की बात अगर किसी दूसरे स्थान पर करते हैं तो रिश्तेदार यह सुनकर शादी से मना कर देते हैं कि आपके वहां आने जाने का रास्ता सही नहीं है

क्योंकि स्थिति यह है की लखनऊ से बहराइच तो आ सकते हैं परंतु बहराइच से जमुनहा जाने से इंकार कर देते हैं

उनकी पहली मांग है कि रोड सही करवाई जाय और रोड का चौड़ीकरण भी साथ साथ हो

वहीं दूसरी मांग उनकी जमुनहा से बहराइच मेन रोड पर रोडवेज बसों का संचालन बढ़ाया जाए चूंकि इस समय एक बस आती है वह भी सुबह उसके बाद रोडवेज बस कोई नही है कि उसमें बढ़ोत्तरी की जाय

तीसरी मांग बिजली की कटौती जो कि बिजली कब आती है कोई पता नही और तो और बिजली की यह दुर्दशा है कि बिजली नाम मात्र रह गयी है जिसके रहने न रहने से कोई फर्क नही पड़ता है

वही क्षेत्र में यदि कोई राही निकलता है तो उसके पेयजल की व्यवस्था कराई जाय

भाजपाइयों का कहना है कि अगर हमारी सभी मांगे पूरी नहीं हुई तो हम जल समाधि लेने में जरा सा भी हिचकिच नहीं करेंगे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।