डिप्टी जेलर बन गोरखपुर की रत्नप्रिया ने जायसवाल समाज का बढ़ाया मान
February 18th, 2021 | Post by :- | 277 Views

गोरखपुर (एके जायसवाल), गोरखपुर खजनी तहसील के नगर पंचायत उनवल के वार्ड-तीन, टेकवार निवासी डॉ रत्नप्रिया जायसवाल (पीएचडी, यम फील) पुत्री रामप्रसाद जायसवाल व माता सुषमा जायसवाल का चयन डिप्टी जेलर के पद पर होने पर गोरखपुर के महापौर सीताराम जायसवाल,अखिल भारतीय सर्ववर्गीय महासभा के प्रदेश अध्यक्ष ध्रुवचन्द्र जायसवाल, वरिष्ठ पत्रकार अजय कुमार जायसवाल, मीना जयसवाल प्रभारी उत्तर प्रदेश महिला, प्रीति रानी जायसवाल राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, अनिल जायसवाल उत्तर प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष, राजीव कुमार जायसवाल मिडिया प्रभारी उत्तर प्रदेश, विजय जायसवाल जिलाध्यक्ष / कार्यकारी अध्यक्ष महराजगंज, आशीष जायसवाल महासचिव संगठन उ.प्र., आशीष जायसवाल उर्फ सोनू संगठन महासचिव युवा, अमित जायसवाल प्रदेश वरिष्ठ सचिव, जायसवाल समाज युवा के चन्द्र शेखर जायसवाल, सचिन जायसवाल व अन्य ने डॉ रत्नप्रिया व उनके माता-पिता को बधाई दिया।

गोरखपुर महापौर सीताराम जायसवाल ने अपने शुभकामना सन्देश में कहा कि कठिन परिश्रम और लगन सफलता की बुलंदियों पर पहुंचाती है, इसका उदाहरण गोरखपुर की बेटी डॉ रत्नप्रिया है। रत्नप्रिया के चयन से समाज और जिले का नाम रोशन हुआ है।

डॉ रत्नप्रिया ने इस पद पर चयन होने का श्रेय माता-पिता तथा शुभ चिन्तकों का आशीर्वाद व स्नेह बताया है।
डॉ रत्नप्रिया के पिता रामप्रसाद जायसवाल टेकवार चौराहे पर मामूली कबाड़ का व्यवसाय कर अपने पुत्रियों को शिक्षा-दिक्षा देने मे कोइ कोर-कसर नही किया, जिसके परिणामस्वरूप बड़ी पुत्री का चयन डिप्टी जेलर पद पर हुआ तो बिगत बर्ष इनकी तीसरे नम्बर की लड़की का चयन ईसरो मे बैज्ञानिक पद पर हुआ है और दो लड़कियां तैयारी कर रही है

डॉ रत्नप्रिया की प्राथमिक व उच्च शिक्षा टेकवार विद्यालय,हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की शिक्षा ,इंटरमीडिएट कालेज भटवलीबाजार,उनवल,स्नातक महाविद्यालय भटवली बाजार उनवल से, एम,ए की शिक्षा गोरखपुर विश्वविद्यालय से तथा पी यच डी एवं यम फील जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय दिल्ली से किया तथा कोचिंग विक्ट्री क्लासेज गोरखपुर से हुआ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।