पीलीभीत : दबंगो ने प्रशासन के साथ सांठगांठ कर युवक को कागजो में म्रत दिखा कर जमीन हड़पी : मैं जिंदा हूँ साबित करने के लिए भटक रहा पीड़ित राम भरोसे
February 16th, 2021 | Post by :- | 69 Views

पीलीभीत, (विक्रान्त ऋषि)। मिर्ज़ापुर के भोला को तो 15 साल बाद जीवित होने का प्रमाणपत्र मिल गया हो लेकिन कागजो में मृत  पीलीभीत का राम भरोसेलाल भी अपने आपको जीवित साबित करने के लिए डेढ़ साल से तहसील,न्यायलय,पुलिस व आला अधिकारियों के चक्कर लगा रहा,लेकिन इंसाफ नही मिल रहा। आरोप है कि गांव के कुछ लोगो ने तहसील प्रशासन से मिलकर राम भरोसे को मृत दिखाकर उसकी जमीन हड़प ली।

दरअसल पीलीभीत की बीसलपुर तहसील में मैं जिंदा हूँ चीखता ये शख्स बीसलपुर तहसील के ढकवारा गांव का राम भरोसेलाल है। ऐसा लगता है कि इनका मामला राम भरोसे हो गया है क्योंकि अधिकारी की चुप्पी तो यही बयां कर रही। दरअसल गरीब राम भरोसे की मात्र 4 डिसमिल जमीन थी आरोप है की गांव के ही रहने वाले हरिशंकर,गंगाराम,गंगाधर,श्यामचरण व शिवदेई ने लेखपाल व कानूनगो से मिलकर राम भरोसे को मृत दिखाकर दिनांक 30 जुलाई 2012 को अपने नाम मे विरासत करा ली। राम भरोसे को इस पूरी करतूत का 14 नवम्बर 2019 को तब पता चला जब उसने खतौनी निकलवाई। खतौनी में राम भरोसे मृत था उसकी जमीन गांव के हरिशंकर व उसके भाइयो के नाम दर्ज हो चुकी थी। जिसके बाद गरीब राम भरोसे का संघर्ष शुरू होता है और आज डेढ़ साल तक जारी है। राम भरोसे बीसलपुर तहसील प्रशासन से लेकर न्यायलय व पुलिस प्रशासन के चक्कर लगा रहा है लेकिन इंसाफ नही मिल रहा। आरोपी राम भरोसे को जान से मारने की धमकी दे रहे है राम भरोसे ने 4 महीने पहले आरोपियो के खिलाफ कोतवाली बीसलपुर में रिपोर्ट भी दर्ज कराई है लेकिन पुलिस ने भी मामले को दबा रखा है।

तहसील,कचहरी,वकील,पुलिस के रोज चक्कर लगाना राम भरोसे की मानो किस्मत में लिख गया हो और दिनचर्या बन गया है। हमने जब डीएम से इस संबंध में बात की तो उन्होंने कार्यवाही की बात तो कही लेकिन कैमरे पर कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया। अब देखना है कि राम भरोसे कागजो में कब जीवित होगा और कब उसे अपनी जमीन मिलेगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।