लालद्वारा मन्दिर में विधायक असीम गोयल ने जाकर माथा टेका तथा बाबा जी का आर्शीवाद प्राप्त किया।
February 13th, 2021 | Post by :- | 195 Views

अम्बाला:(अशोक शर्मा)
बाबा लाल दयाल जी के 659वें जन्मदिवस के उपलक्ष्य में आज कंचघर स्थित लालद्वारा मन्दिर में विधायक असीम गोयल ने जाकर माथा टेका तथा बाबा जी का आर्शीवाद प्राप्त किया। इस मौके पर उन्होंने श्रद्धालुओं के साथ केक काटकर उनका जन्मदिन भी मनाया। यहां पहुंचने पर मन्दिर के प्रतिनिधियों हरिनारायण चावला, अरविन्द गौड, कपिश गर्ग व अन्य लोगों ने मुख्य अतिथि को स्मृति च्रिह देकर उनका स्वागत किया।
विधायक असीम गोयल ने इस मौके पर कहा कि आज से लगभग 658 वर्ष पूर्व इस धरती पर बाबा लाल दयाल जी महाराज के रूप में उनका प्रकाटोत्सव हुआ था और उन्होंने मात्र 10 वर्ष की आयु में ही अनेक शास्त्रों का अध्ययन करते हुए अद्भूत ज्ञान प्राप्त कर लिया था और उन्हें अनेक सिद्धियां प्राप्त थी, बाबा लाल दयाल एक महान योगी थे, तथा उन्होंने कहा था मानव जैसा भी चिंतन मनन करेगा वैसा ही तन मन प्राप्त करेगा तथा जैसी लग्न निष्ठा होगी वैसे ही हमारा जीवन सुखमय होगा। विधायक ने यह भी कहा कि बाबा जी के पास जो भी दर्शन या आशीावार्द के लिए आता था वह उनका शिष्य बन जाता था। उन्होंने उदाहरण के तौर पर बताया कि औरंगजैब के भाई दारा शिकोहे उनके दर्शन के लिए आया था तथा उनके उपदेशों से प्रभावित होकर वह उनका शिष्य बन गया। बाबा लाल दयाल ने हर इंसान को अपना चहेता बनाया था। उन्होंने अपने उपदेशों में कहा था कि खुदा परमात्मा एक है। उन्होंने यह भी कहा कि जब भी मैं इस पवित्र स्थान पर माथा टेकने आता हूं तो मुझे एक अदुभूत शक्ति का आभास होता है तथा मन को संतुष्ठि मिलती है। उन्होंने इस अवसर पर यह भी कहा कि बाबा लाल दयाल का आशीवार्द हम सब पर सदा बना रहे। इस मौके पर मंदिर में भंडारे का भी आयोजन किया गया। विधायक ने इस अवसर पर श्रदालुओं के साथ भंडारे का प्रसाद भी ग्रहण किया।
इस मौके पर एडवोकेट संदीप सचदेवा, हरिनारायण चावला, अरविंद्र गौड, कपिश गर्ग, संजीव गोयल टोनी, हितेष जैन, संदीप बसीन, गुरविंदर सिंह मानकपुर, सुरेश सोहाता, श्याम सुंदर, अर्पित अग्रवाल के साथ-साथ भारी संख्या में श्रदालुगण मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।