किसान महापंचायत में मुख्य अतिथि के रूप में अपनी बात कहते पायलट ने केंद्र की मोदी सरकार पर जोरदार हमला बोलते कहा कि वादा तो किया गया था कि
February 10th, 2021 | Post by :- | 73 Views

भरतपुर। (शौकत अली)

 

राजस्थान के पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने केंद्र सरकार की तरफ से किसानों के लिए लागू किये गए तीन कृषि कानूनों को काले कानून बताते कहा है कि जिन्हें मोदी सरकार कृषि कानून बता रही है दरअसल बे तीनो कानून किसानो को खत्म करने के लिए बनाए गये कानून हैं। मंगलवार को राजस्थान के भरतपुर में बयाना की जैसोरा पंचायत में फतेहसागर पर किसान महापंचायत में मुख्य अतिथि के रूप में अपनी बात कहते पायलट ने केंद्र की मोदी सरकार पर जोरदार हमला बोलते कहा कि वादा तो किया गया था कि किसान की आमदनी दोगुनी होगी लेकिन उन्हें आज तक एक भी ऐसा किसान नहीं मिला जिसने कहा हो कि उसकी आमदनी दुगुनी हो गई है। उन्होंने कहा कि दोगुनी की बात तो दूर इन तीन काले कानूनों के बाद तो अब स्थिति यह आ गई है कि वह अपने ही खेत पर गुलाम बन जाएगा। इस अवसर पर पायलट ने किसानो की एकजुटता पर जोर देते कहा कि देश के किसी भी राज्य में जो भी व्यक्ति खेती कर रहा है वह किसान है। उसकी कोई जाति नहीं है। देश उन्हें किसान के रूप में जानता है। किसान की मजबूती के लिए हम सभी को एकत्रित होना होगा। पायलट ने बताया कि 12 फरवरी को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी राजस्थान आ रहे हैं। गंगानगर और हनुमानगढ़ में उनका दौरा है। वे किसान को ताकत देकर जाएंगे। दिल्ली के बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे किसानों के हौसले पस्त करने के लिए केंद्र सरकार के इशारे पर दिल्ली पुलिस की दमनकारी नीति की आलोचना करते पायलट ने कहा कि किसानों को रोकने के लिए दिल्ली की सीमाओं को छावनी बनाने के साथ सड़को पर कीले ठोक कर मोदी सरकार ने पूरे विश्व मे भारतीय लोकतंत्र की जो छवि पेश की है उसकी चारो तरफ घोर भर्त्सना हो रही है लेकिन सरकार को फिर भी कोई शर्मिंदगी महसूस नही हो रही। किसान महापंचायत को पूर्व केबिनेट मंत्री एवं डीग-कुम्हेर विधानसभा क्षेत्र से विधायक बिश्वेन्द्र सिंह के अलाबा बड़ी संख्या में कांग्रेस के विधायकों तथा अन्य इंका नेताओ ने भी सम्बोधित किया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।