जौनपुर पांच दिवसीय स्काउट गाइड प्रशिक्षण शिविर का सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ समापन।
February 7th, 2021 | Post by :- | 383 Views

जौनपुर( आँचल सिंह)।श्री गणेश राय स्नातकोत्तर महाविद्यालय डोभी जौनपुर (उ.प्र.)। बी. एड. विभाग एंव रोवर/ रेंजर प्रशिक्षुओं के पांच दिवसीय स्काउट गाइड प्रशिक्षण शिविर का सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ समापन शनिवार 6/02/2021को हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि धर्मपाल सिंह ने सभी टोलियों के प्रतिभागियों का आह्वान किया कि वे धर्म का अनुसरण करें, न कि किसी पंथ का। उन्होंने कहा कि हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई पंथ हैं, जबकि अपने माता-पिता, भाई-बहन, गुरुजन, पड़ोसी, रिश्तेदारों से बंधे दायित्वों का निर्वहन करना धर्म कहलाता है। इसका मतलब है कि समाज में कैसे रहना है, इसका बोध धर्म कराता है। इसीलिए पहले धर्म का अनुसरण करें।
पांच दिनों तक चले शिविर में छात्र छात्राओं को स्काउट गाइड का प्रशिक्षण दिया। समापन सत्र की अध्यक्षता डाॅ. वी.एल. यादव व डा. कुमुद त्रिपाठी ने कहा कि युवा मुश्किलें आने पर न घबरायें, संघर्ष व्यक्ति के जीवन का गौरव पूर्ण इतिहास है।
महाविद्यालय स्काउट गाइड प्रभारी सरिता सिंह ने कहा कि स्काउटिंग सफल जीवन जीने की कला है। इसका अनुसरण करने वाला व्यक्ति दूसरों के लिए प्रेरणा स्त्रोत बन जाता है।
संरक्षक विभाग धीरेन्द्र सिंह ने स्काउट ध्वज फहराया व शिविर में आवश्यक दिशा निर्देश दिये। स्काउट प्रभारी प्रशिक्षक ज्ञानचन्द्र चौहान ने टोलियों का निर्माण कराया। पूर्व शिक्षक बनवारी ने अपना अनुभाव व दिशा-निर्देश साझा किया । सभी टोलियों को अलग अलग वर्गों में प्रदर्शन के आधार पर पुरस्कृत किया गया। समापन समारोह में प्रवीण कुमार पांडेय व श्रीमती नीतू सिंह मौजूद रहे। प्रशिक्षक कु.कविता कुमारी व राकेश कुमार मिश्रा(डी.ओ.सी.) जौनपुर ने कार्यक्रम का संचालन बहुत ही हर्षोल्लास से किया। प्रशिक्षुओं अम्बुज सिंह , नीतेश प्रजापति व रोहित विश्वकर्मा ने ध्वज शिष्टाचार, टोली निर्माण, शिविर नियम, स्काउटिंग आंदोलन, डेली रूटीन, पेट्रोल ड्यूटी, यात्रा वर्णन आदि की ट्रेनिंग दी गई।
प्रशिक्षक विशाल दूबे, कुँवर अनुराग सिंह मुस्कान, गरिमा व चंदन ने प्रशिक्षुकों को उनके महान लक्ष्य तक पहुंचाऐं और नैतिक संस्कारों से उनकी सराहना की।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।