पलवल जिले गाँव बहीन में गौरक्षा समिति के सदस्यों ने टाटा 407 से आधा दर्जन गौवंश को मुक्त कराया |
September 18th, 2019 | Post by :- | 120 Views
हसनपुर पलवल (मुकेश वशिष्ट) :-  गौरक्षा सेवा समिति के सदस्यों ने टाटा 407 वाहन का पीछा कर गौतस्करों के चूंगल से छह गायों को मुक्त कराया है। गौतस्कर यहां फायरिंग करते हुए मौके से फरार हो गए। समिति के सदस्यों ने मामले की सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने समिति के सदस्य के बयान पर गौतस्करों के खिलाफ मामला दर्ज करके उनकी तलाश शुरू कर दी है। पुलिस ने गायों को बहीन स्थित गौशाला में छोडकर टाटा 407 वाहन को कब्जे में ले लिया है।
गौरक्षा समिति के अध्यक्ष भगत सिंह में बताया कि उन्हें सूचना मिली कि एक टाटा 407 गाडी गायों को तस्करी के लिए मेवात से यूपी की ओर ले जा रही है। सूचना मिलते ही समिति के सदस्य हरेंद्र सौरोत, सुखदेव, विष्णु, देवीलाल, ललित, पुरषोत्तम, महेश व योगेश पुन्हाना मोड के निकट वाहन का इंतजार करना शुरू कर दिया। जैसे ही गाय से भरी टाटा 407 गाडी वहां पहुंची तो समिति के सदस्यों ने उसे रोकने का प्रयास किया, लेकिन वाहन चालक ने गाडी की स्पीड और बढा दी। समिति के सदस्यों ने गाडी का पीछा करने हुए बावरी मोड के निकट यातायात जाम कर दिया।
गाडी में सवार तस्करों ने जब अपने आप को घिरता देखा तो वह दहशत के लिए हवाई फायर करते हुए मौके से फरार हो गए। घटना की सूचना मिलते ही होडल थाना पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। पुलिस व समिति के सदस्यों ने जब टाटा 407 की तलाशी ली तो उसमें से छह गाय बरामद की। पुलिस ने समिति के सदस्य ललित कुमार की शिकायत पर गौतस्कर गांव उटावड थाना बहीन निवासी मुस्ताक, मुस्तकिम, खल्ली व गांव डेनीवास निवासी जाहिद के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। समिति के अध्यक्ष रावत ने कहा कि इन दिनों क्षेत्र में गौतस्करी चरम सीमा पर है और प्रशासन पूरी तरह से मौन है। उन्होंने कहा कि तस्करों के हौसले इतने बुलंद हो गए हैं कि वह हथियार से सीधा वार करते हैं। उन्होंने कहा कि गौतस्करों पर अंकुश लगाने के लिए प्रशासन व सरकार को ठोस कदम उठाने होंगे, अगर सरकार को यही रवैइया रहा तो आगामी चुनावों में सरकार को इसका खामियाजा भुगतना पड़़ेगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।