आज़ाद चुनाव लड़ रहे राजकुमार मल्होत्रा के सोशल मीडिया पर जारी हर बयान में राजनीतिक गलियारों में मची खलबली ,पुलिस ने की 506 आई पी सी के तहत कार्रवाई ।
February 2nd, 2021 | Post by :- | 442 Views
आज़ाद चुनाव लड़ रहे राजकुमार मल्होत्रा के सोशल मीडिया पर वायरल हुई वीडियो में जारी बयान से ,राजनीतिक गलियारों में मची खलबली ।

जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
इन दिनों नगर कौंसिल चुनाव को लेकर हर पार्टी चुनाव जीतने को अपनी एड़ी चोटी का जोर लगा रही है। इसको जीतने के लिए वह मीडिया के साथ साथ ,सोशल मीडिया और डोर टू डोर प्रचार कर रही है ।लेकिन कई बार यह जीतने के लिए  चुनाव प्रचार के दौरान ऐसा भाषण दे देते है कि जिससे राजनीतिक गलियारों में हड़कंप मच जाता है।
बता दे कि शिरोमणि अकाली दल बादल के  गठबंधन साथ आज़ाद  उम्मीदवार राजकुमार मल्होत्रा ने इस चुनाव प्रचार के दौरान जोश में आकर इतने हदें पार कर दी कि उन्होंने अपने विरोध में कांग्रेस पार्टी को आड़े हाथों लिया।
उन्होंने कहा कि हम केवल भगवान से डरते है ना कि किसी और से ।चुनाव प्रचार में उन्होंने कहा कि इस नगर कौंसिल चुनाव में अगर किसी वोटर को सत्ताधारी पार्टी दबाने की कोशिश या बुरी नज़र देखने की कोशिश की तो हम उस आंख को निकाल कर ब्यास नदी में फेंक देंगे ।
मल्होत्रा ने कहा कि वर्ष 2017 से लेकर वर्ष 2020 तक 972 मौतें हुई ,इस समय दौरान हल्का विधायक जंडियाला गुरु सुखविंदर सिंह डैनी कभी उनके दुख में शरीक होने आया नही ।जो विकास कार्य के टेंडर लगे हैं वह हमारे प्रधानगी पद के कार्यकाल के दौरान हैं।  उन्होंने कहा कि नगर कौंसिल में चुनाव जीतने के बाद जंडियाला गुरु शहर को एक नई दिख देंगे और जो सरकारी ग्रांटों और फंडों में घपलेबाजी हुई है इसका हिसाब लेंगे।
इस मामले को लेकर अकाली नेता के गगन्दीप सिंह से बात की गई तो उन्होंने कहा चुनावो के दौरान ऐसा भाषण होना आम बात है ।
वही हल्का विधायक जंडियाला गुरु सुखविंदर सिंह डैनी ने कहा कि यह उनकी अभद्र भाषा लोगों में डर और सहम का माहौल पैदा करती है। जबकि कांग्रेस पार्टी अमन शांति माहौल वाली है ।मल्होत्रा की  दुख में शरीक होने वाली बात पर जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि  वह अपने दायरे में रहे हमे क्या करना है यह हम अच्छी  तरह जानते हैं ।
इसके इलावा पुलिस द्वारा मिली जानकारी अनुसार इस विडीओ को लेकर 506 आई पी सी की रपट दर्ज की गई है ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।