बस्तर के विकास के लिए कमी नही होगी- मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल कोण्डागांव जिला को 278 करोड़ 11 लाख लागत के 75 कार्यो की सौगाते अनुसूचित क्षेत्र में कोई भी आदिवासी भूमि विहिन नही होगा कोण्डागांव जिले के प्रत्येक देवगुड़ी के लिए 5 लाख की घोषणा विश्रामपुरी में महाविद्यालय की स्थापना मर्दापाल और धनोरा को पूर्ण तहसील तथा बांसकोट और बड़ेडोंगर को उप-तहसील बनाने की घोषणा कोण्डागांव जिला में लघु वनोपज हेतु बनेगी कोल्ड स्टोरेज कोण्डागांव जिला में बंदोबस्त की होगी शुरूवात
January 28th, 2021 | Post by :- | 72 Views

कोण्डागांव —मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने  कोण्डागांव जिले के ग्राम कोंगेरा में आयोजित लोर्कापण भूमि पूजन कार्यक्रम में शिरकत करते हुए जिले वासियों को 278 करोड़ 11 लाख रूपये लागत के 75 कार्याे की सौगाते दी। इस अवसर पर प्रदेश के आबकारी एवं उद्योग मंत्री कवासी लखमा, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्री गुरू रूद्रकुमार, बस्तर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री लखेश्वर बघेल, उपाध्यक्ष श्री संतराम नेताम, विधायक सर्वश्री मोहन मरकाम, श्री चंदन कश्यप, श्री रेखचन्द जैन, श्री राजमन वेंजाम, राज्य सभा सांसद श्रीमती फूलो देवी नेताम, और मुख्यमंत्री जी के सलाहकार श्री राजेश तिवार एवं स्थानीय जनप्रतिनिधी विशेष रूप से उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने इस अवसर पर विशाल जनसमुदाय को मुख्य अतिथि की आसंदी से संबोधित करते हुए उन्होने लोगो को 72 वें गणतंत्र पर्व पर शुभकामनायें देते हुए अवगत कराया कि भारतीय संविधान यहां के नागरिको को अधिकार प्रदत् करता है, संविधानिक प्रावधानो की रक्षा करना हम सभी का दायित्व है। उन्होने कहा कि बस्तर के विकास के लिए कमी नही आने देंगें। बस्तर में स्वास्थ्य, शिक्षा, सड़क व रोजगार और सिंचाई सुविधा पर सरकार विशेष फोकस कर रही है। बस्तर में बंद स्कूलो को प्रारंभ कराने और लोगो की आर्थिक स्तरो को उंचा उठाने के लिए सरकार पहल कर रही है। लाॅकडाउन के दौरान 52 लघुवनोपजो की खरिदी की व्यवस्था की गई। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में समुदायिक एवं व्यक्तिगत वन अधिकार पत्रक वितरण की शुरूवात बस्तर के कोण्डागांव जिले से हई है। सामुदायिक वन अधिकार क्षेत्रो में फलदार एवं औषधिय पौधे लगाये जायेंगे। इससे वनवासियों को सभी तरह के वनोपज मिलेगी। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा कि अनुसूचित क्षेत्रो में कोई भी आदिवासी भूमिविहिन नही रहेगा हर व्यक्ति को राजस्व विभाग द्वारा जमीन उपलब्ध कराई जायेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार छ0ग0 की विलुप्त संस्कृति को पुर्नजीवित कर रही है। बस्तर की पहचान दशहरा महोत्सव, दंतेश्वरी माई ,मेटल कार्य, मुर्गा लड़ाई और घोटुल के नाम पर रही है। सरकार यहां की पुरातन संस्कृति को संवारने जन समुदाय के सहयोग से संकल्पित है। उन्होने कोण्डागांव के प्रत्येक देवगुड़ी के लिए 5 लाख रूपये की घोषणा करते हुए पारांपरागत घोटुल व्यवस्था को  विकसित करने राशि की कमी नही होने देने की बाते कही। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने गौधन न्याय योजना अंतर्गत सरकार द्वारा गोबर खरीदी से लोगो की माली हालत में हुई सुधार और नरवा योजना अंतर्गत जन संरक्षण एवं सवंर्धन का जीर्क करते हुए का कि बस्तर के विकास के लिए सिंचाई संसाधनो को विकसित करना जरूरी है। उन्होने कहा कि बोधघाट परियोजना के पूर्ण होने से यहां कि सिंचाई रकबा मेें बढ़ोत्तरी होगी। लिफ्ट ऐरिगेशन के माध्यम से बोधघाट का पानी नारायणपुर और कोण्डागांव जिला तक पंहुचेगा। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने बस्तर में जल जंगल और जमीन का जीर्क करते हुए यहां के खनिजो की समुचित दोहन हेतु उद्योग स्थापना पर जोर देते हुए कहा कि बस्तर में शासकीय जमीन में उद्योग लगाई जायेगी। उन्होने लोगो को भरोसा दिलाया कि उद्योग स्थापना के लिए आदिवसियों की जमीने नही ली जावेगीं। नये स्थापित उद्योगो में रोजगार हेतु यहां के निवासियों को प्राथमिकता दी जावेगी। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने क्षेत्रिय विधायक श्री संतराम नेताम की मांगो का जीर्क करते हुए विश्रामपुरी में महाविद्यालय स्थापना, धनोरा और मर्दापाल को तहसील , बांसकोट , बड़ेडोंगर और बीजापुर में उपतहसील खोलने, ग्राम पंचायत विश्रामपुरी में काॅमप्लेक्स निर्माण, गम्हरी से नयापारा तक सड़क निर्माण, विश्रामपुरी में मिनी स्टेडियम , कोण्डागांव जिले में लघुवनोपज हेतु कोल्ड स्टोरेज निर्माण तथा कोण्डागांव जिला में  बंदोबस्त भूमि सुधार शुरूवात की घोषणा की। आबकारी एवं उद्योग मंत्री श्री कवासी लखमा ने अपने उधबोधन में सरकार की योजनाओं को विस्तार पूर्वक रेखाकिंत किया।लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी एवं जिले के प्रभारी मंत्री गुरू रूद्रकुमार ने अपने संक्षिप्त उधबोधन में कहा कि इस प्रकार के कार्यक्रम क्षेत्र के विकास की दिशा और दशा दर्शाता है। मुख्यमंत्री जी की मंशा है कि हर स्तर पर बस्तर का विकास जरूरी है। उन्होने राज्य सरकार की जनहीतकारी योजनाओं का जीर्क करते हुए सनसमुदाय से योजनाओं के क्रियान्वयन में सहयोग की अपील की। कार्यक्रम को कोण्डागांव के विधायक श्री मोहन मरकाम और क्षेत्रिय विधायक श्री संतराम ने भी संबोधित किया। इससे पूर्व मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने समारोह स्थल पर विभिन्न विभागो के विकास प्रर्दशनी, पारंपरिक वाद्ययंत्रो की प्रर्दशनी का अवलोकन किया। समारोह में शामिल मांझी, चालकी, गांयता, पुजारी, से भेंट एवं चर्चा कर उनका स्वागत किया। उन्होने कोण्डागांव जिले के लोगो (प्रतिक चिन्ह) का अनावरण किया और जिले के पर्यटन ब्रोसर का विमोचन किया। 06 हितग्राहियों को वन संसाधन पत्र, नगर पालिका कोण्डागांव को चिखलपुटी का सामुदायिक अधिकार ,दो हितग्राही को तेंदुपत्ता सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत दो-दो लाख राशि का चेक तथा ग्राम मुराहनगोहान की पार्वति बाई और बड़ेराजपुर के श्रीमती फूलेश्वरी मरकाम को कृषि यांत्रिकरण मिशन के तहत टेªक्टर की चाबी प्रदान किया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।