किसान आंदोलन की आड में उपद्रव करने वालों की अब खैर नहीं: जिला पुलिस अधीक्षक
January 27th, 2021 | Post by :- | 181 Views

होडल,(मधुसूदन), जिला पुलिस कप्तान दीपक गहलावत ने प्रैस वार्ता को संबोधित करते हुये कहा कि कल 26 जनवरी को किसान संगठन के नेताओं द्वारा राष्ट्रीय पर्व-गणतंत्र दिवस के अवसर पर ट्रैक्टर मार्च/रैली की जिला पलवल से वाया फरीदाबाद होते हुये दिल्ली कुच की अनुमति नहीं ली गई थी। इस बारे में किसान संगठन से संबंधित नेताओं को जिला पलवल तथा कमिश्नरी फरीदाबाद पुलिस प्रशासन द्वारा बार-बार मिटिंग लेकर अवगत कराया गया था। इसके बावजूद किसान संगठन से संबंधित नेताओं ने अपनी मनमानी करते हुये बगैर अनुमति के लगभग 350-400 ट्रैक्टरों पर लगभग 2000-2200 किसान/व्यक्ति सवार होकर अटोंहा मोड से जगह-जगह स्थापित पुलिस बैरिकेड को तोडते हुये दिल्ली जाने की जिद के साथ आगे बढते जा रहे थे। कानून व्यवस्था एंव शांति की दृष्टि को ध्यान में रखते हुये पलवल-फरीदाबाद सीमा सोफता मोड एन0एच-19 पर भी नाका लगाया गया था, जो आगे-आगे चल रहे 4/5 ट्रैक्टरों पर सवार चालक एंव व्यक्तियों ने वहां नाका बैरीकेड को तोडकर वहां डियूटी पर तैनात पुलिस कर्मचारियों एंव अधिकारीगण को जान से मारने की नियत से सीधे उन पर ट्रैक्टरों को चढाने लगे, जिस पर कर्मचारियों ने बामुश्किल अपनी-अपनी जान बचाई। इस दौरान कुछ पुलिस कर्मियों को चोटे भी आई और उन्हें रोकने का प्रयास किया गया तो वे काफी उग्र हो गये और अपने ट्रैक्टरों को राष्ट्रीय राजमार्ग एन0एच0-19 पर आडा तिरछा खडा करके जाम कर दिया, जिसके कारण राजमार्ग के दोनों तरफ वाहनों की लम्बी कतारे लग गई। जिस पर स्थिति को नियंत्रण करने के लिये पुलिस को हल्का पुलिस बल प्रयोग करना पडा। उन्होंने बताया कि इस संबंध में थाना गदपुरी में सरकारी डियूटी में बाधा डालने,सरकारी सम्पति को नुकसान पहुंचाने तथा जान से मारने का प्रयास करने एंव राजमार्ग जाम करने से संबंधित धाराओं में अज्ञात 2000-2200 व्यक्तियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। जिसकी विवेचना के संबंध में अनिल कुमार डी0एस0पी0 मुख्यालय पलवल के नेतृत्व में एस0आई0टी0 का गठन किया गया है। गठित एस0आई0टी0 को सख्त निर्देश दिये गये कि घटना पर मौजूद साक्ष्यों के आधार पर आरोपियों की पहचान करके उनके खिलाफ शीघ् कडी से कडी कार्यवाही की जाए।
पुलिस अधीक्षक गहलावत ने आमजन से अपील की है कि किसी के बहकावे में ना आएं और अफवाहों पर ध्यान ना दें। पुलिस द्वारा सोशल मीडिया पर भी पैनी नजर रखी जा रही है। अब किसान आंदोलन की आड में उपद्रव करने वालों को बख्शा नहीं जायेगा। उन्होंने आगाह किया कि कानून से खिलवाड करने वालों के खिलाफ कडी कार्यवाही की जायेगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।