संत ना होते जगत में तो जल मरता संसार महंत वेदनाथ
January 22nd, 2021 | Post by :- | 44 Views
भिवानी पुरातन काल से भारतवर्ष को ऋषि-मुनियों की तपोस्थली कहा गया है  जिसके कारण आज पूरे विश्व में भारत को  विश्व गुरु का दर्जा भी मिला है यह सब संत महात्माओं के तपोबल के कारण ही संभव हुआ है अगर संत ना होते जगत में तो जल मरता संसार यह कहना है जोगी वाला मठ के मठाधीश बाबा वेद नाथ जी महाराज का वह आज गवार फैक्ट्री के नजदीक  स्थित त्रिवेणी धाम के दसवीं वार्षिक भंडारे के अवसर पर उपस्थित श्रद्धालु भक्तजनों को व संत समाज को संबोधित करते हुए कह रहे थे।
इस अवसर पर कार्यक्रम की जानकारी देते हुए त्रिवेणी धाम के महंत बाबा ओम नाथ ने बताया कि नवग्रह स्थापना दिवस की अवसर पर आज 10 वें भंडारे का आयोजन किया गया है जिसमें दूरदराज से आए संतों वह श्रद्धालु भक्तों ने मिलकर प्रसाद ग्रहण किया  इस अवसर पर बाबा प्रदीप नाथ ,बाबा दिलेर गिरी, बाबा राम नाथ बाबा भूत नाथ , गुड़गांव के सेवक प्रवीण, सतबीर,अमित,मनोज, ललित,संदीप,सचिन, प्रवीण, मनोज मलिक,बिजेंद्र , अनिल ,आदि सेवक मौजूद थे ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।