पलवल में कोविड-19 वैक्सीनेशन कार्यक्रम का शुभारंभ, विधायक दीपक मंगला ने रिबन काटकर किया वैक्सीनेशन कार्यक्रम का विधिवत शुभारंभ|
January 16th, 2021 | Post by :- | 227 Views

पलवल में पांच जगहों पर हो रहा वैक्सीनेशन का कार्य

पलवल (मुकेश कुमार हसनपुर) :- पलवल के विधायक दीपक मंगला ने कहा कि भारत आज उन देशों की श्रेणी में आ गया है, जिसने महामारी कोविड-19 के खिलाफ खुद की वैक्सीन तैयार की और विभिन्न स्तर पर परीक्षणों के बाद उसे मान्यता दी। उन्होंने कहा कि भारतीय वैज्ञानिकों द्वारा तैयार वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है और और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज इस वैक्सीनेशन कार्यक्रम की शुरुआत राष्ट्रीय स्तर पर कर दी है। इस वैक्सीन का इस्तेमाल शुरू होने के बाद भारत से कोरोना पूरी तरह से खत्म हो जाएगा।

विधायक दीपक मंगला आज पलवल सामान्य अस्पताल से जिला में वैक्सीनेशन कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत आने के बाद वैक्सीनेशन कार्यक्रम में भाग ले रहे फ्रंटलाइन वर्कर्स को संबोधित कर रहे थे।
दीपक मंगला ने जिला के नागरिक अस्पताल में वैश्विक महामारी से बचाने के लिए वैक्सीन लगाने के कार्य का विधिवत रीबन काटकर शुरूआत की। विधायक की मौजूदगी में आज यहां सबसे पहला टीका नागरिक अस्पताल पलवल की सफाई कर्मचारी गुडिया को लगाया गया तथा दूसरी वैक्सीन डा. नरेंद्र अरोड़ा को लगाई गई।

विधायक दीपक मंगला ने देश के वैज्ञानिकों व चिकित्सकों को बधाई देते हुए कहा कि कोरोना की वैक्सीन/दवा बनाकर लोगों को बड़ी राहत दी है। उन्होंने देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी व प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल को भी बधाई दी कि उनके नेतृत्व में देश व प्रदेश के लोगों को अब कोरोना से मुक्ति मिल जाएगी। उन्होंने बताया कि आज जिला में पांच केंद्रो पर पांच सौ लोगों को यह वैक्सीन लगाई जा रही है। लोग अपने आप को सुरक्षित रखने के लिए सरकार के दिशा-निर्देशों का पालन करें, तभी इस बीमारी से मुक्ति मिलेगी।

विधायक दीपक मंगला ने कहा कि वर्ष 2020 में देश ही नहीं अपितु पूरे विश्व को कोरोना जैसी महामारी से बड़ा नुकसान हुआ, लेकिन अब देश व प्रदेश के लोगों को वैश्विक महामारी से डरने की जरूरत नहीं है। क्योंकि इसकी वैक्सीन तैयार हो चुकी है और हम सब वैक्सीन लगवाकर व नियमों का पालन करते हुए इस बीमारी से जीत सकते हैं। उन्होंने कहा कि अगर किसी को इस वैक्सीन से साइड इफैक्ट के लक्षण नजर आते हैं तो उनके इलाज की व्यवस्था भी सरकार द्वारा की गई है। लोगों को इससे डरने की जरूरत नहीं है।

मंगला ने बताया कि सरकार द्वारा जारी की गई हिदायतों के अनुसार स्वास्थ्य विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुरूप प्रथम चरण में कोविड-19 से बचाने के लिए सबसे पहले स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों तथा निजी स्तर पर स्वास्थ्य सेवाओं में कार्यरत डॉक्टरों व अन्य स्टाफ को वैक्सीन लगाई जाएगी तथा दूसरे चरण में पुलिस विभाग, गृहरक्षक और कोविड-19 से बचाव हेतु फ्रंट लाइन में कार्य कर रहे अधिकारियों व कर्मचारियों व तीसरे चरण में 50 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के उन व्यक्तियों को जो किसी भी बीमारी से ग्रस्त है एवं चौथे चरण में 50 वर्ष से कम आयु के उन लोगों को जो अन्य बीमारी से ग्रस्त है, को वैक्सीन लगाई जाएगी।

सिविल सर्जन डा. ब्रह्मदीप ने बताया कि गर्भवती महिलाओं तथा 18 साल से कम आयु वर्ग के बच्चों को वैक्सीन नहीं लगाई जाएगी। इन सभी केंद्रों पर वैक्सीनेशन के कार्य को अनुभवी मैनपॉवर द्वारा पूरा किया जाएगा। इसके बाद अन्य आम लोगों को वैक्सीन उपलब्ध कराई जाएगी। वैक्सीनेशन हेतु पहचान-पत्र दिखाना अनिवार्य है, जिसमें आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर आईडी कार्ड आदि पहचान पत्र शामिल हैं। पंजीकरण के बिना कोई भी व्यक्ति कोरोना वैक्सीन प्राप्त नहीं कर सकता है।

प्रथम टीकाकरण के उपरांत 28 दिनों के बाद दूसरा टीका लगाया जाएगा। टीकाकरण होने के बाद भी मास्क व शारीरिक दूरी का पालन करना आवश्यक होगा। कोरोना वायरस वैक्सीन पंजीकृत कर्मियों के नाम से ही आएगी। यदि कोई कर्मी अनुपस्थित रहता है तो उसके स्थान पर दूसरे कर्मी को वैक्सीन नहीं लगाई जाएगी। इस मौके पर पलवल निगरानी समिति के चेयरमैन मुकेश सिंगला, पलवल ब्लॉक पंचायत समिति के चेयरमैन प्रेमचंद शर्मा, जिला प्रतिरक्षण अधिकारी

डा. योगेश मलिक, डा. वी.पी. गुप्ता, डा. एस.एम. बागला, प्रवीण ग्रोवर सहित अन्य चिकित्सक व संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।
इसी क्रम में सीएचसी अलावलपुर में एसडीएम पलवल कंवर सिंह, सीएचसी दूधौला में नगराधीश अंकिता तथा हथीन सीएचसी में तहसीलदार रोहताश ने लोगों को कोरोना से बचाने के लिए कोविड-19 वैक्सीन लगाने के कार्य का शुभारंभ किया।

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।