जगद्गुरु रामभद्राचार्य का 72 वां जन्म दिवस हषोंल्लास से मनाया।
January 14th, 2021 | Post by :- | 22 Views

चित्रकूट(आँँचल सिंह)भगवान कामतानाथ जी की तलहटी में आयोजित श्रीराम कथा के तीसरे दिन कथा सुनाते हुए पदम्. विभूषित जगदगुरु रामभद्राचार्य ने कहा कि मेरा जन्म मकर संक्रांति के अवसर पर हुआ है तो मुझे समंयक क्रांति होगी अब प्रत्येक हिन्दू को गले लगाना ही होगा। उन्हें उचित अवसर संमान प्रदान करना है।मैं क्रांति कारी कदम उठाने में संकोच नहीं करता हूँ। मुझे ईश्वर ने कुछ अलग कार्य करने के लिए भेजा है तो अवश्य पुरा करूंगा ।भारतीय संस्कृति मेरी प्रतिक्षा कर रही हैं तो मुझे उसकी रक्षा करना मेरा धर्म हैं। आजकल के संतों को केवल धन इकठ्ठा करने की होड मची है लेकिन यह गलत है। मैं धन लाभ का घोर विरोधी हू। मैं सामाजिक कार्यों में सदैव तत्पर हूँ एशिया का एकमात्र दिब्यांग विश्वविद्यालय बनाया है जो सभी दिब्यांग भाई – बहनों को निशुल्क शिक्षित , प्रशिक्षित कर रहा है। लगभग एक घंटे की कथा में भगवान कामतानाथ के विग्रह की चर्चा की। कार्यक्रम की अध्यक्षता मलूकपीठ के पीठाधीश्वर डा.आचार्य देवाचार्य राजेंद्र दास जी महाराज ने कहा कि आज हम सभी सनातन धर्म के एकमात्र आचार्य आप श्री जगदगुरु जी हैं। आपके पास बैठकर साहित्यिक चर्चा होती है। लगता है कि आप भगवान आदधरामानंदाचार्य जी के अवतार हैं। मैं आपको संत समाज की तरफ जहां से बहुत बहुत वंदन अभिनंदन करता हूँ। तुलसी पीठ के युवराज व उत्तराधिकारी आचार्य रामचंद्र दास जी ने परम पूज्य गुरुदेव के अलौकिक शक्ति अलौकिक कृपा का साक्षात दर्शन कराया । विश्वविद्यालय परिवार ने 72 किलो की माला पहनाकर स्वागत किया। कामता विधालय और राघव परिवार , तुलसीपीठ आश्रम द्वारा प्रसाद वितरण किया गया। आज सभी संस्था द्वारा संयुक्त रूप से परम पूज्य गुरुदेव को जन्मदिन की बधाई दी। इस अवसर पर भाजपा के वरिष्ठ नेता प्रभात झा , राज्य सभा सांसद ने परम पूज्य गुरुदेव की अलौकिक शक्ति दर्शन के बारे में उपस्थिति जनसमूह को बताया। प्रो.रमाकांत पांडेय काशी हिंदू विश्वविद्यालय की तरफ से अभिनंदन पत्र दिया। इस अवसर पर जगदगुरु जी को अशोक सिंघल परिषद की तरफ से संमान पत्र व एक लाख रुपये का चेक भेंट किया गया। मंचासीन अतिथियों मे उदबोधन क्रमशः कुलपति प्रो० योगेश चंद्र दुबे , वित्त अधिकारी आर0 पी0मिश्रा , विश्वविद्यालय की संगीत विभाग प्रभारी डा. जयोति विश्वकर्मा ने जगदगुरु जी को सोहर गीत गाकर मंत्रमुग्ध कर दिया। तुलसी बधिर विधालय की प्राचार्य सु श्री निरमला वैष्णव ने भी विधालय परिवार की तरफ से जगदगुरु जी व आमंत्रित संतों, महंतों , भकत जनों का हार्दिक आभार प्रकट किया। इस अवसर पर चित्रकूट के विधायक नीलांशु चतुर्वेदी, पूर्व विधायक दिनेश मिश्रा, राजा हेमराज चतुर्वेदी , चित्रकूट धाम के आई जी के० सत्य० नारायण , चित्रकूट आयुक्त गौरव दयाल , जिलाधिकारी चित्रकूट शेषमणि पांडेय ,पुलिस अधीक्षक चित्रकूट अंकित मित्तल , प्रियांशु चतुर्वेदी , योगेश पांडेय लखनऊ , डा0 अवनीश चंद्र मिश्रा व नीता मिश्रा लखनऊ , प्रो0 एस सी तिवारी डा. एस एस मिश्रा प्रयागराज , कथा के मुख्य यजमान नीलेश मोहता व धर्म पत्नी प्रीती मोहता जी , सहित संत गण , भक्त जन हजारों की संख्या में उपस्थित रहे। आचार्य रामचंद्र दास जी ने कहा कि आप सभी की ओर से पुनः जगदगुरु जी को मैं दंडवत प्रणाम करता हूँ कि आपने हम सभी को अपनी रामकथा रूपी अमृत वर्षा की और आऐ हुए आमंत्रित अतिथियों ,संतों का हार्दिक वंदन करता हू । मंच संचालन डा.सुरेंद्र शर्मा ने किया। कथा पंडाल कथा श्रोताओं से भरा रहा। उक्त आशय की जानकारी विश्वविद्यालय के पीआरओ एस0 पी0 मिश्रा ने दी।भ

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।