एमवीएन विश्वविद्यालय में छात्र छात्राओं के लिए डेडलिफ्ट प्रतियोगिता का किया गया आयोजन
September 17th, 2019 | Post by :- | 215 Views

      पलवल , प्रवीण आहूजा

एमवीएन विश्वविद्यालय में छात्र छात्राओं के लिए डेडलिफ्ट प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ जेबी देसाई एवं कुलसचिव डॉ राजीव रतन एवं डीपी रामकुमार ने सभी प्रतिभागियों का स्वागत किया इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ जेबी देसाई ने कहा कि शारीरिक व्यायाम हमारी मांसपेशियों को स्वस्थ रखता है और शरीर में खून के प्रभाव को भी बेहतर बनाता है सही रक्त प्रवाह से दिमाग भी सक्रिय रूप से कार्य करता है एवं ऊर्जा स्तर को बढ़ाने और बनाए रखने में पूरी मदद मिलती है।

विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ राजीव रतन ने व्यायाम की उपयोगिता को बताते हुए कहा कि व्यायाम हमारे ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखता है और मेटाबलीजिम को बढ़ाता है जिससे हम अधिक समय तक उम्र की गति को धीमा कर सकते हैं एवं इससे तनाव वह डिप्रेशन में भी कमी आती है । हर व्यक्ति को रोजाना समय पूर्वक उठकर व्यायाम करना चाहिए क्योंकि राम करने से पूरे शरीर पर तनाव खत्म हो जाता है और इसके साथ-साथ दिनचर्या भी बेहतर आदमी कर सकता है उन्होंने बताया कि रोजाना सात्विक आहार से भी शरीर को ऊर्जा मिलती है

इस प्रतियोगिता के अवसर पर छात्र-छात्राओं ने विभिन्न हार कैटेगरी 55 से 60 60 से 65 65 से 70 70 से 75 75 से 80 80 से 85 एवं 85 से 90 किलोग्राम का भारोतोलन किया विभिन्न भार कैटेगरी पुरुष वर्ग में सूरज कुलवीर मोहन सौरव हेमंत पोसवाल व्यवसाय में प्रथम स्थान तथा नीरज, हरिश्चंद्र ,अमित कुमार ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया इसी क्रम में विभिन्न भार के डिग्री महिला वर्ग में निक्की, ऋतु शर्मा एवं राखी ने प्रथम स्थान तथा मनीषा शिवांगी विजय ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया। वही कार्यक्रम के अंत में स्पोर्ट्स चेयरमैन डॉक्टर राहुल वैष्णव ने सभी अतिथियों एवं प्रतिभागी छात्र-छात्राओं को धन्यवाद देते हुए कहा कि विश्वविद्यालय में मानसिक शिक्षा के साथ-साथ शारीरिक शिक्षा पर भी उचित ध्यान दिया जाता है इसके लिए विश्वविद्यालय पर्याप्त संसाधन भी उपलब्ध है जिससे छात्र-छात्राओं को स्पोर्ट्स में आगे बढ़ने की प्रेरणा भी मिलती है।

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।