रास्ट्रीय राजमार्ग 30 पर तीन नए टोलप्लाज़ा, आमजनता पर पड़ेगा अतिरिक्त बोझ
August 20th, 2019 | Post by :- | 102 Views

छत्तीसगढ़ (कोंडागांव) अरुण कुमार पाण्डेय । कोंडागांव ज़िला मुख्यालय से फरसगांव के मध्य लगभग एक वर्ष पूर्व निर्मित टोलप्लाज़ा बनकर तैयार हो चुका था।

राष्ट्रीय राज मार्ग क्रमांक 30 पर जगदलपुर – कोंडागांव – धमतरी इन तीन ज़िलों में टोलप्लाज़ा आरंभ कर राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा वाहन चालकों से टोल टेक्स लेने यह प्लाज़ा बनवाया गया था।

जोकि छत्तीसगढ़ में सत्ता परिवर्तन के बाद से ही आरंभ होने की जुगत बनाये हुए था।

आप को बता दे कि जगदलपुर से रायपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर वर्तमान में कुल 3 ऐसे ही टोलप्लाज़ा बनाये गए हैं।

CG100 News ने कल मध्यरात्री ही टोलप्लाज़ा पर टैक्स वसूली आरंभ कर दिए जाने की ख़बर प्रसारित कर दिया था।

आज सुबह से ही राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 30 पर इन टोलप्लाज़ा में वाहन चालकों से टोलटेक्स की वसूली आरंभ हो गई है।

पर टोलप्लाजा पे मिलने वाली सुविधाएं अब तक चालू नही की गई है। सरकार ने हर टोल प्लाजा पर खानपान की सुविधाएँ शुरू करने का फैसला किया है।

कुछ वाहन चालकों जहां अचानक आरंभ हुए टोलटेक्स की जानकारी न होने व पास में पैसे न नही होने के कारण थोड़ी परेशानी हुई तब टोलप्लाज़ा के प्रबंधन द्वारा उन्हें इस बार टेक्स में छूट देते हुए आगे जाने दिया गया।

इन टोलप्लाज़ा के आरंभ होने से इनके आसपास के शहरों में राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा लगाए विद्युत पोलो पर जहां आजतक रोशनी नही जली है, अब उनके भी आरंभ होने का रास्ता साफ़ हो गया है।

राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 30 पर शहरी क्षेत्रों में रोशनी की पर्याप्त व्यवस्था नही होने के कारण आये दिन सड़क दुर्घटनाओं की खबरे आती ही रही हैं।

अब टोलप्लाज़ा आरंभ होने के साथ ही इन क्षेत्रों में सड़क पर रोशनी की व्यवस्था का रास्ता भी साफ़ हो गया है।

आपको बताना चाहेंगे कि इन विद्युत पोलो पर रोशनी दौड़ते ही जगदलपुर ज़िला के भानपुरी व फरसागुड़ा, कोंडागांव ज़िला के बनियागांव व ज़िला मुख्यालय की सड़कें जगमगा उठेंगी।

टोलप्लाज़ा पर टैक्स वसूली तो आरंभ कर दिया गया है पर अब देखना यह है कि इन विद्युतपोलो पर प्रकाश की व्यवस्था कब तक आरंभ होती है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।