हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ की जिला अंबाला कार्यकारिणी ने अनुबंधित अध्यापकों के करनाल मे चल रहे आंदोलन व मांगों का किया पूरजोर समर्थन
September 17th, 2019 | Post by :- | 142 Views

अम्बाला, बराड़ा:(जयबीर राणा थंबड़)
हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ (संबंधित सर्वकर्मचारी संघ हरियाणा एवं स्कूल टीचर्स फेडरेशन ऑफ इंडिया) की जिला अंबाला कार्यकारिणी ने बैठक कर अनुबंधित अध्यापकों के करनाल मे चल रहे आंदोलन व मांगों का पूरजोर समर्थन
किया ओर सरकार से मांग रखी कि सरकार हठधर्मिता को छोड़कर बातचीत द्वारा अतिथि अध्यापकों की मांगों का समाधान निकाले। लोकतंत्र मे बातचीत द्वारा ही समस्याओ के समाधान निकालना उचित मार्ग है।
प्रेस को जारी ब्यान में हरिय़ाणा विद्यालय अध्यापक संघ के
जिला प्रधान बृजमोहन एंव जिला सचिव अशोक कुमार सैनी ने कहा कि अतिथि अध्यापको को पद अनुसार पूर्ण वेतनमान दिया जाए, मकान किराया भत्ता, एल.टी.सी., कैशलेस मैडीकल लाभ की सुविधा व सी.सी.एल.तथा पेंशन की भी सुविधा दी जाए।
उन्होने बताया सरकार द्वारा बनाया गया बिल खोखला ढकोसला मात्र है इससे अतिथि अध्यापको को कोई लाभ नही होने वाला है बल्कि यह बिल अतिथि अध्यापको को हमेशा के लिए अतिथि बनाए रखने की साजिश है !
उन्होने बताया 2014 मे भाजपा के तत्कालिक प्रधान व वर्तमान
शिक्षा मंत्री महोदय ने कहा था कि उनकी सरकार आते ही पहली कलम से अतिथि अध्यापकों को पक्का कर दिया जायेगा, भाजपा के चुनावी घोषणा पत्र मे भी वायदा किया था उन्होने मांग की कि भाजपा सरकार को अपना किया हुआ चुनावी वायदा पूरा करना चाहिये।
संघ नेतायों ने आगे कहा कि अब चुनाव के समय सरकार के वोट पर चोट का समय है। सर्वकर्मचारी संघ के पूर्व घोषित कार्यक्रम अनुसार हर विधानसभा क्षेत्र में हर गली-मोहल्ले, गाँव-गाँव में भाजपा के झूठे वायदों कि पोल खोलें। बैठक में जिला वित्त सचिव सतनाम सिंह, आडिटर गुरचरण सिंह, खण्ड बराड़ा प्रधान मुकेश घारू, खण्ड साहा प्रधान ओम प्रकाश, सचिव सज्जन कुमार, वित्त सचिव जसवंत कुमार, नारायणगढ़ प्रधान जसमत सैनी और सुरेश कुमार हाज़िर रहे।
संघ ने आज पंचकुला में कंप्यूटर टीचर्स पर पुलिस द्वारा किये गये बर्बरतापूर्वक लाठीचार्ज की निंदा करते हुये इसे सरकार की तानाशाही करार दिया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।