देश के विकास में इंजीनियरों की भूमिका बहुत खास : प्रोफेसर वसीम
September 16th, 2019 | Post by :- | 93 Views

मेवात (सद्दाम हुसैन) इंजिनियर दिवस पर बोलते हुए प्रोफेसर वसीम अकरम ने कहा कि आजादी के बाद से अब तक जिस तेजी से विकास हुआ है, उसमें इंजीनियर्स के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। एक अच्छा और सफल इंजीनियर वही है, जो देश के विकास को सबसे आगे रखकर कार्य करे। अधिकतर बच्चों की पसंद भी आजकल इंजीनियरिंग ही है क्योंकि इंजीनियरिंग का सीधा ताल्लुक होता है तकनीक से और जिस तेज़ी से तकनीक का विकास हो रहा है युवाओं को ये फील्ड भी उतना ही लुभा रही है। क्योंकि इसमें अच्छी हैसियत, बढ़िया वेतन और काम की संतुष्टि होती है I इंजीनियर बनने के लिए छात्रों को थोड़ी मेहनत करनी होगी। 12वीं के बाद इंजीनियरिंग की फील्ड चुनने के लिए ये जरूरी है कि आपकी साइंस और मैथ्स स्ट्रॉन्ग हो।

इंजीनियरिंग की किसी भी ब्रांच में इन दोनों सबजेक्ट्स की जानकारी बेहद जरूरी है। छात्रों को उनकी शाखा का चुनाव अपनी पसंद के अनुसार करना चाहिए। वसीम अकरम सहायक प्रोफेसर के अनुसार इंजीनियरिंग के बाद कैरियर की संभावनाओं की अगर बात की जाए तो इंजीनियरिंग स्नातकों के लिए रोजगार कीसंभावनाएं हमेशा अच्छी रहती हैं उम्मीदवार या तो निजी क्षेत्र, सार्वजनिक क्षेत्र या सरकार में आसानी से नौकरी ले सकते हैं ।भारत में साल में लगभग तेरह लाख इंजीनियर पास आउट होते हैं जिनमे से लगभग 65 प्रतिशत अच्छी जगहों पर सेटल हो जाते हैं।

बुनियादी ढांचे के विकास के लिए इंजीनियरों की अच्छी मांग है। इंजीनियरिंग चुनौती और रचनात्मकता का बेहरतीन क्षेत्र है। लेकिन इंजीनियरिंग में दाखिला लेने से पहले अभिभावक और छात्र इन बातों का धयान जरूर रखें हर माता पिता अपने बच्चों पर अपनी पसंद को न थोपें बल्कि बच्चों से उनकी पसंद पूछकर उनके कर्रिएर चुनने में मदद करें । कॉलेज का चुनाव महत्वपूर्ण है। एक शाखा में इसलिए दाखिला न लेक्योंकि वह लोकप्रिय है या उनमे रोज़गार के अवसर ज्यादा है बल्कि अपनी रूचि को ध्यान में रककर फैंसला ले ।

प्रोफेसर वसीम ने कहा कि जापान में स्तिथ पर्ल ब्रिज,दक्षिणी फ्रांस में मिलाओ पुल , यूएसएस जॉर्ज एच डब्लू बुश (सी वि एन – 77), उत्तरी यूरोपीय गैस पाइपलाइन, चीन में बीजिंग नेशनल स्टेडियम, चीन के बैलोंग एलीवेटर, पाम आइलैंड दुबई, इंग्लैंड से लेकर फ्रांस तक फैली यूरोटनल, थ्री गोर्गेस डैम चीन , दुनिया में इंजीनियरिंग के कमाल के उदहारण हैं। जो इंजीनियरिंग के प्रति युवाओं के लगाव को बखूबी दर्शाते हैं।

किसी भी देश के विकास में इंजीनियरों की भूमिका बहुत विषेस होती है एक इंजीनियर नई नई तकनीक का अविष्कार करता है, जिसके इस्तेमाल से इस देश के लोगों को अलग अलग सुविधाएँ प्रदान की जाती है ।भारत के विकाश में में भी इंजीनियरों की भूमिका सर्वप्रथम रही है लेकिन इस बात से भी इंकार नकिया जा सकता की अमेरिका और इंग्लैंड जैसे देशों की तर्रक्की में भारतीय इंजीनियरों का बड़ा योगदान है।

अगर भारत देश को चाइना अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देशों के बराबर या आगे जाना है तो और इंजीनियरों का उत्पादन करना होगा। सरकार को ऐसे नियम बनने चाहिए जिससे भारत का हर इंजीनियर काम से काम पांचसाल अपने देश के लिए ही काम कर सके।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।