अगर मेरे बारे में जानना है तो ओम प्रकाश चौटाला से तिहाड़ जेल में जाकर पूछो कौन है रणदीप सुरजेवाला
September 16th, 2019 | Post by :- | 124 Views
अगर मेरे बारे में जानना है तो ओम प्रकाश चौटाला से तिहाड़ जेल में जाकर पूछो कौन है रणदीप सुरजेवाला

कैथल(विशाल रेहड़ियां):आगामी विधानसभा चुनावों के मद्देनजर सक्रिय हो चुके कांग्रेसी नेता रणदीप सुरजेवाला कैथल में कार्यकर्ता सम्मलेन को संबोधित कर रहे थे। विपक्ष पर निशाना साधते हुए सुरजेवाला ने कहा कि इस बार चुनाव में उनके खिलाफ षडयंत्र हो सकता है। उन्होंने कहा कि षडयंत्र पार्टी के भीतर के लोग भी कर सकते हैं। उदाहरण देते हुए सुरजेवाला ने षडयंत्र करने वालों को चेताया और कहा कि कहा कि मेरे बारे में अगर किसी को पूछना है तो तिहाड़ जेल जाकर ओम प्रकाश चौटाला से पूछो, सुरजेवाला ने कहा कि ‘मैं ऐसा इलाज करता हूं कि लोगों को पीढ़ियों तक याद रहता है, सौ सुनार की एक लोहार की मैं एक लोहार की ही मार करता हूं’। सुरजेवाला ने कहा कि ‘ना तो मैं अंधा हूं और मुझे दिखता भी है मैं अकेला सभी षडयंत्र करने वालों के लिए काफी हूं’।

बीजेपी पर निशाना साधते हुए कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता और कैथल विधासभा क्षेत्र से विधायक रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि हरियाणा की मनोहर सरकार मंदी और तालाबंदी की प्रतिबिम्ब बन गई है। रणदीप सुरजेवाला ने इस सम्मलेन में पार्टी कार्यकर्ताओ में जमकर जोश भरते हुए कहा कि वे पूरी तरह से चुनाव के लिए तैयार हो जाए। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि उन्हें डरने की कोई जरुरत नहीं है, वो दिन दूर नहीं है कि हरियाणा की सत्ता कैथल की जनता के कदमों में होगी।रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि 1993 में मैंने प्रण लिया था कि आजीवन ओम प्रकाश चौटाला के सामने चुनाव लड़ूंगा। सुरजेवाला ने कहा कि ना तो मैं दबुंगा, ना झुकुंगा और ना ही किसी से डरूंगा। जिस समय आधे कांग्रेसियों ने अपने बचाव के लिए ओम प्रकाश चौटाला के साथ समझौता किया हुआ था, उस समय भी मैं पीछे नहीं हटा मेरे ऊपर डकैती के पर्चे दर्ज किए गए। इरादा-ए-कत्ल के पर्चे दर्ज हुए परंतु में उसके आगे नहीं झुका। सुरजेवाला ने कहा कि मैंने चौटाला परिवार से 18 साल लड़ाई लड़ी मैं आज जिंदा हूं और उनको देख लो वो कहां पर है। उन्होंने कहा कि इनेलो बीजेपी की बी टीम है और उनके दोनों मिल जुलकर राजनीति कर रहे हैं।

M

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।