वर्तमान सरकार के कार्यकाल में प्रदेश में ईमानदारी से नौकरी देने की संस्कृति की शुरुआत हुई है : कैप्टन अभिमन्यु
September 15th, 2019 | Post by :- | 22 Views

चंडीगढ़, ( महिन्द्र पाल सिंहमार ) ।        हरियाणा के वित्तमंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने कहा कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल में प्रदेश में ईमानदारी से नौकरी देने की संस्कृति की शुरुआत हुई है। अब नौकरी के लिए प्रदेशवासियों को नेताओं के पीछे घूमने, अपनी जमीन बेचने या गिरवी रखने अथवा दलालों के चक्रव्यूह में फंसने की जरूरत नहीं है बल्कि युवाओं को गु्रप-डी से प्रथम श्रेणी अधिकारी तक की नौकरी उनकी योग्यता व मेरिट के आधार पर मिल रही हैं। उन्होंने कहा कि केवल ईमानदारी के इसी रास्ते से देश महान, शक्तिशाली और पुन: सोने की चिडिय़ा बन सकेगा और परम वैभव को प्राप्त करेगा।
वित्तमंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने यह बात आज नारनौंद विधानसभा के गांव मसूदपुर में आयोजित एक अभिनंदन समारोह को बतौर मुख्यातिथि संबोधित करते हुए कही।

कैप्टन अभिमन्यु ने कहा कि पिछले कई दशकों से पूरा हरियाणा यह सोच रहा था कि क्या कभी वह समय भी आएगा जब गांव, किसान, मजदूर वर्ग के बच्चे भी अपनी मेहनत व प्रतिभा के बल पर बड़े अधिकारी नियुक्त हो सकेंगे। अपनी 23 साल के राजनीतिक जीवन में मेरे लिए यह पल सर्वाधिक खुशी देने वाला है जब गांव के गरीब परिवारों के होनहार युवाओं को उनकी योग्यता के बल पर एचसीएस के लिए चुना जा रहा है। इससे पहले वर्तमान सरकार ने 2016 में एचसीएस की पहली भर्ती की थी जिसमें भी 57 युवाओं का उनकी मेरिट के आधार पर चयन हुआ था। उस भर्ती में रोडवेज कर्मचारी व क्लर्क तथा

मजदूरी करने वाले व्यक्तियों के प्रतिभाशाली बच्चों का मेरिट आधार पर चयन किया गया था।
वित्त मंत्री ने कहा कि आज प्रदेश के 2.60 करोड़ लोगों को यह विश्वास हो गया है कि नौकरी मेरिट के आधार पर भी मिल सकती है। उन्होंने बताया कि वर्तमान सरकार द्वारा 5 साल में एचएसएससी व एचपीएससी के माध्यम से 70 हजार युवाओं को नौकरियां दी गई हैं। इनके माध्यम से हरियाणा में ईमानदारी से नौकरी देने की संस्कृति शुरू हुई है। इसका लाभ यह हुआ है कि अब बच्चे पढऩे लगे हैं और नौकरी पाने के लिए प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने लगे हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।