गुजरात के साबरकांठा जिला में आज दिव्यांग दिवस पर कलेक्टर के नाम अतिरिक्त कलेक्टर को ज्ञापन दिया
December 3rd, 2020 | Post by :- | 55 Views

कुशलगढ़ अरुण जोशी

गुजरात हिम्मतनगर दिव्यांग अधिकार मंच ने साबरकांठा जिला कलेक्टर सी जे पटेल ओर समाज सुरक्षा अधिकारी महेशभाई पटेल को आज दिव्यांग दिवस पर ज्ञापन दिया। ज्ञापन देने वालों में दिव्यांग अधिकार मंच के जिला अध्यक्ष परमार जयदीप सिह पी.,तहसील अध्यक्ष पटेल जितेंद्र पी.,मनोज जोशी, प्रदीप जोशी,बंसी प्रजापत सहित कई दिव्यांग उपस्थित थे। दिव्यांगों की मदद के लिए सरकार भले कई योजनाएं चलाने का दावा कर रही है। लेकिन इनका लाभ उन तक कितना पहुंच रहा है। इस पर गौर करने वाला कोई नहीं है। दिव्यांग सरकारी पेंशन पाने को इधर-उधर भटक रहे हैं।
दिव्यांगों को राहत देने के लिए पेंशन, कृत्रिम अंग वितरण करने के साथ कई योजनाएं चला रही हैं। मगर इनका लाभ जरूरतमंदों को नहीं मिल पा रहा है। अधिक से अधिक दिव्यांग योजनाओं से वंचित हैं। सरकार की बहुत सी योजना है जो दिव्यांग के लिए है। जैसे दिव्यांग निवारण के लिए शल्य चिकित्सा के लिए अनुदान, राज्य परिवहन निगम की बसों में नि:शुल्क यात्रा, शासकीय सेवा में आरक्षण की व्यवस्था और विशिष्ट दिव्यांगों को राज्य स्तरीय पुरस्कार के साथ-साथ जलकर और हाउस टैक्स में दृष्टिहीन और दिव्यांग को सौ फीसदी से लेकर पचास फीसदी तक छूट प्रदान की भी व्यवस्था है। साथ ही दिव्यांगों के उपकरण वितरण व पेंशन सहित कई सुविधाएं हैं।दिव्यांगजनों को विभागीय सुविधाएं देने को समय-समय पर कैंप भी लगाए जा रहे हैं। पेंशन के लिए आवेदन प्राप्त कर उन्हें ऑनलाइन फीड कराया जाता है। ताकि अधिक से अधिक दिव्यांगों को शासन की योजनाओं का लाभ दिया जाए। ऐसे बहुत से दिव्यांग हैं, जो अपनी शारीरिक दिव्यांगता को अभिशाप मानकर बैठ जाते हैं। किंतु उनमें कुछ ऐसे भी होते हैं, जो अपनी विपरीत परिस्थितियों से लड़कर समाज में अपना स्थान बनाते हैं । व्यक्ति तन से नहीं, मन से दिव्यांग होता है। यदि कोई व्यक्ति मन से कोई लक्ष्य पाने की ठान ले तो, तन की दिव्यांगता उसके मार्ग की बाधक नहीं बनती। मन के हारे हार है, मन के जीते जीत। यह जानकारी मनोज जोशी ने दी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।