विश्व एड्स दिवस पर एमवीएन विश्वविद्यालय में ई लर्निंग माध्यम से जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन|
December 1st, 2020 | Post by :- | 197 Views

पलवल (मुकेश कुमार) 01  दिसम्बर :- एमवीएन विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ फार्मास्यूटिकल साइंसेज एवं स्कूल ऑफ एलाइड  हेल्थ साइंसेज  ने विश्व एड्स दिवस के उपलक्ष में एक ऑनलाइन सत्र का आयोजन किया जिसमें विद्यार्थियों को एड्स के बारे में  जागरूक किया गया I इस दिवस को  रेड रिबन क्लब, एमवीएन विश्वविद्यालय  जोकि  पलवल सिविल अस्पताल में  जनवरी 2020 को  गठित हुआ  के सहयोग से  मनाया गया I  जिसके नोडल ऑफिसर डॉ तरुण विरमानी,  गिरीश कुमार एवं पियर एजुकेटर अश्वनी शर्मा थे I

इस सत्र के मुख्य प्रवक्ता  अश्वनी शर्मा  एवं  हिमानी रावत थे I अश्वनी शर्मा ने एड्स क्या होता है, कैसे होता है, कैसे इसका  इलाज किया जा सकता है इत्यादि के बारे में विस्तार से बताया और  बताया कि  इसके मुख्य लक्षण  इनफ्लुएंजा  बुखार गले की सूजन,  सिर दर्द और जांघों में  घाव के लक्षण  आदि हैं एवं हिमानी रावत ने एड्स की जांच के बारे में विस्तार से समझाया और बताया कि इस बीमारी में रोगी की रोग प्रतिरोधक क्षमता खत्म हो जाती है I

नरेश कुमार, एस टी आई काउंसलर एवं उमेद सिंह, आईसीटीसी की भी अहम भूमिका रही जिन्होंने पलवल क्षेत्र के एड्स के आंकड़ों के बारे  जानकारी प्रदान की और बताया कि एचआईवी की जांच पलवल जिला अस्पताल मैं की जाती है और इलाज के लिए पीजीआई रोहतक एवं चंडीगढ़ जाया जा सकता है और ईएसआई सेक्टर 8 फरीदाबाद में इलाज शीघ्र ही शुरू होने वाला है I

विश्व विद्यालय की प्रबंधक संचालक कांता शर्मा, अध्यक्ष वरुण शर्मा, कुलाधिपति संतोष शर्मा, कुलपति डॉ जे वी देसाई एवं कुलसचिव डॉ राजीव रतन ने इस सत्र की बहुत प्रशंसा की और कहा कि समाज के कल्याण के लिए इस प्रकार के जागरूकता कार्यक्रम अत्यंत आवश्यक है और फार्मेसी विभाग इस प्रकार के दिवस को मनाने में कभी पीछे नहीं रहता I विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ तरुण विरमानी ने एचआईवी संक्रमण के मुख्य चरणों के बारे में बताया और कहा कि एड्स को नेशनल एड्स कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन मुख्य रूप से देखता है  I इस सत्र के दौरान सभी अध्यापक गण, गैर अध्यापक गण एवं विद्यार्थी ऑनलाइन माध्यम से उपस्थित रहे I

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।