भिवानी विभिन्न गांव से किसान सभा के जत्थे दिल्ली कूच करेंगे, संघर्ष तेज करने का आह्वान।
November 30th, 2020 | Post by :- | 65 Views

भिवानी:(हुसैन): अखिल भारतीय किसान सभा भिवानी कमेटी ने निर्णय लिया है कि वह जिले के हर गांव में जाएगी तथा हर किसान को जारी आन्दोलन में शामिल होने के लिए प्रेरित करेगी, इस अभियान में मजदूरों का संगठन सीटू भी शामिल है।
इसकी शुरूआत आज से गांव अलखपुरा तोशाम क़े साथ,किरावड़ व किरावड़ की ढ़ाणी, बलयाली गांव में किसानों की बैठक करके उन्हें दिल्ली कूच के लिए प्रेरित किया। इन गांव के किसान 2 दिसम्बर को दिल्ली किसानों के धरने में शामिल होंगे। इन गांव की सभाओं को सम्बोधित करते हुए संगठन के राज्य उपप्रधान मास्टर शेर सिंह व जिला संयुक्त सचिव कामरेड ओमप्रकाश ने कहा कि आज किसान अपनी जायज मांगों को लेकर दिल्ली व बार्डर पर धरना देने पर मजबूर हैं,जो जनता व किसान विरोधी कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं, जन विरोधी बिजली कानून 2020 रद्द हो,पराली जलाने का जुर्माना व सजा खत्म की जाए, उसकी 23 फसलों को लाभकारी दामों पर खरीदा जाए। परन्तु सरकार कारपोरेट घरानों के दबाव में बहुमत किसान व आम जनता के हितों की उपेक्षा करके जबरदस्ती ये काले कानून थोप रही है। बड़े ही शर्म की बात है कि हरियाणा सरकार के मुखिया इस आन्दोलन में फूट डालने के मकसद से इसका सम्बन्ध खालिस्तानी आंतकवादियों से बता रहे हैं या कांग्रेस की साजिश बताते हैं। वे पंजाब व हरियाणा के किसानों में फूट डलवाने की नापाक कोशिश कर रहे हैं, परन्तु किसान आन्दोलन इनकी साजिश को समझ चुका है। ये लोग हिंदुत्व का नाम लेकर जाति और धर्म के नाम पर जनता में फूट डालकर सत्ता हथिया कर बड़े बड़े पूंजिपतियों की तिजौरी भरने का काम कर रहे हैं। हिन्दु बहुमत किसान मजदूरों का खून निकालने का काम कर रहे हैं। हिंदुओं के हितों से इनका कोई लेना देना नहीं है। आज की सभाओं को रामफल देशवाल, अलखपुरा के जंगबीर, किरावड़ के नरेन्द्र पूनिया, रामफल स्योराण व बलियाली के प्रेम शर्मा ने सम्बोधित किया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।