श्रीगंगानगर के 61एफ गांव में मिला पाकिस्तान से आया कबूतर।।सुरक्षा एजेंसियां कर रही छानबीन।
September 15th, 2019 | Post by :- | 173 Views

श्रीगंगानगर(सतनाम मांगट)।भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर पर स्थित श्रीगंगानगर जिले में पाकिस्तान की तरफ से एक कबूतर उड़कर आया है।बीएसएफ ने जांच पड़ताल के बाद पुलिस को इस बाबत सूचित किया है। पुलिस ने कबूतर को पकड़कर अपने कब्जे में ले लिया है।पाकिस्तानी कबूतर की पूंछ पर और दाहिनी तरफ उर्दू भाषा में मुहर  लगी हुई है. पूंछ पर कुछ नंबर (संभवतया फोन नंबर) लिखे हुए हैं. पुलिस टीम इसकी जांच-पड़ताल  कर रही है।61-F गांव में मिला है पाकिस्तानी कबूतर।श्रीकरणपुर के थानाधिकारी राजकुमार राजोरा ने बताया कि कबूतर सीमा पर स्थित 61-F गांव में शनिवार को मिला. गांव के लखविन्द्र सिंह ने इस बारे में बीएसएफ को सूचित किया था. इस पर बीएसएफ अधिकारी वहां पहुंचे और कबूतर को चेककिया।फिर बीएसएफ ने पुलिस को सूचित किया. पाकिस्तानी कबूतर को कब्जे में ले लिया गया है. बॉर्डर पार पाकिस्तान से उड़कर आए इस कबूतर की पूंछ पर और दाहिनी तरफ उर्दू भाषा में मुहर लगी हुई है. इस पर उर्दू भाषा में पूंछ पर कुछ नंबर (संभवत: फोन नंबर) और उस्ताद अख्तर और दाईं तरफ उर्दू भाषा में ही इरफान या मरफान लिखा हुआ है. फिलहाल पुलिस और इंटेलिजेंस एजेंसी की टीम इस पाकिस्तानी कबूतर की छानबीन में जुटी हुई है.कबूतर की पूंछ पर और दाहिनी तरफ उर्दू भाषा में मुहर लगी हुई है। राजोरा ने बातायाकेी बॉर्डर पार पड़ोसी देश पाकिस्तान में वहां की आवाम द्वारा कबूतरबाजी के शौक के लिए कबूतर पाले जाते हैं. प्रारंभिक तौर पर यह पाकिस्तान कबूतर कबूतरबाजी के किसी शौकीन का माना जा रहा है. उसने संभवतया कबूतर पर उर्दू भाषा में पहचान के लिए मुहर लगाई है, लेकिन श्रीकरणपुर पुलिस और इंटेलिजेंस की टीम प्रत्येक एंगल से उसकी जांच कर रही है. श्रीगंगानगर जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर स्थित भारतीय गांवों में कई बार पाकिस्तान की तरफ से गुब्बारे और संदेहास्पद चीजें आती रहती हैं. सीमा पर रहने वाले ग्रामीण भी सतर्कता बरतते हुए इस बारे में समय-समय पर पुलिस को सूचित करते रहते हैं. इस बार कबूतर आने से यह चर्चा का विषय बना हुआ है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।