रेल रोको आंदोलन 68 वें दिन में हुआ दाखिल ,गृह मंत्री की शर्तों के अनुसार नही हो।सकती बातचीत:किसान जत्थेबंदी ।
November 29th, 2020 | Post by :- | 249 Views

रेल रोको आंदोलन 68 वें दिन में हुआ दाख़िल ,गृह मंत्री की शर्तों के अनुसार नही हो सकती बातचीत :किसान जत्थेबंदी ।
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
किसान मज़दूर सँघर्ष कमेटी पंजाब के राज्य प्रधान सतनाम सिंह पन्नु और राज्य सचिव सरवन सिंह पंधेर ने कहा कि कुछ निज्जी चैंनलों द्वारा आंदोलन के बारे में कुछ ऐसे सवाल कर आंदोलनकारी किसानों को नक्सली और खालिस्तानी साबत करने पर ज़ोर लगा रहा है जबकि लोकतंत्र के चौथे स्तंभ का बड़ा भाग अपनी जिम्मेदारी सही निभा कर लोगों की आवाज़ घर घर तक पहुंचा रहा है। किसान मज़दूर जत्थेबंदी द्वारा जसबीर सिंह पिद्दी ,सुखविंदर सिंह सभरा ,लखविंदर सिंह वरियाम नंगल की अध्यक्षता में किसानों ,मज़दूरों ने बड़ी गिनती में दिल्ली अंदर दाखिल होकर कुंडली बॉर्डर पर जाम लगाकर मोदी सरकार के खिलाफ आंदोलन शुरू कर दिया गया है। किसान नेताओं ने कहा कि गृह मंत्री की शर्तों के अनुसार केंद्र सरकार के साथ बातचीत नही हो सकती मीटिंग से पहले ही प्रधानमंत्री का बयान देना कि कृषि कानून किसानों के लिए सही हैं ।किसान मज़दूरो की आवाज़ सुनने की जगह कॉरपोरेट घरानों की आवाज़ सुनी जा रही है। जंडियाला गुरु में रेल रोको आंदोलन आज 68वें दिन में दाख़िल हो गया है ।रेल रोको आंदोलन को संबोधित करते हुए सविंदर सिंह चुताला ने कहा कि आंदोलन को लंबा चलेगा और दूसरा जत्था दिल्ली के लिए फिरोज़पुर से हज़ारों ट्रालियों द्वारा रवाना होंगे। इस मौके पर गुरविंदर सिंह खजाला ,गुरप्रीत सिंह गोपी ,सोहन सिंह ,परमजीत सिंह ,सतनाम सिंह ,हरबीर सिंह ,सुखजिंदर सिंह ,अजैब सिंह ,गरमुख् सिंह और जोगिंदर सिंह ने भी संबोधित किया

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।