जांजगीर-चांपा जिले के जनपद पंचायत मालखरौदा के अंतर्गत ग्राम पंचायत चारपारा के रोजगार सहायक पर लगातार शिकायत के बावजूद भी अभी तक नहीं हुआ मामले में जांच टीम गठित!
November 28th, 2020 | Post by :- | 90 Views

*शिकायत के बाद भी अब तक नहीं हुई रोजगार सहायक के मामले में जांच टीम गठित*

आखिर कैसे रखा गया है 3 महा के लिए रखे गए रोजगार सहायक को सालों से पद नियुक्त

*क्या पत्नी सरपंच है इस कारण अधिकारी अब तक कार्यवाही नहीं किए हैं*

*मालखरौदा* जांजगीर चांपा जिले के मालखरौदा जनपद पंचायत अंतर्गत आने वाले ग्राम पंचायत अंतर्गत आने वाले ग्राम पंचायत चारपारा के रोजगार सहायक के खिलाफ लगातार शिकायत के बावजूद आज तक नहीं हुई जांच टीम गठित अधिकारियों पर क्यों ना उठे सवाल 3 माह के लिए रखा गया रोजगार सहायक सालों से है पद पर जमा कब किया जाएगा चारपारा के रोजगार सहायक के ऊपर कार्यवाही आपको बता दें कि ग्राम पंचायत चारपारा में सरपंच पति को रोजगार सहायक बनाया गया है इसको लेकर लगातार जिम्मेदार अधिकारियों से शिकायत की जा रही है पर अब तक किसी प्रकार की कार्यवाही नहीं होना भी अधिकारियों पर सवाल खड़े कर रहे हैं अब मामले में शिवसेना ने भी जिला सीईओ से शिकायत किया है लेकिन अब तक जांच टीम भी गठित नहीं होना समझ से परे है आपको यह सुनकर और भी हैरानी होगी कि जो सरपंच पति रोजगार सहायक बना है उसे सिर्फ 3 माह के लिए ही रोजगार सहायक बनाया गया था लेकिन आज तक वह सालों से रोजगार सहायक के पद पर जमा हुआ है आपको बता दें कि चरपारा में चल रहे रोजगार गारंटी के तहत चल रहे था तालाब गहरीकरण में भी लापरवाही का मामला सामने आया था जिसको लेकर लगातार खबर प्रकाशन भी हुआ था लेकिन पत्नी सरपंच होने के कारण अब तक रोजगार सहायक के ऊपर किसी प्रकार का कार्यवाही नहीं हुआ है जबकि नियमों को भी ग्राम पंचायत चारपारा में तार तार किया जा रहा है लेकिन जिम्मेदार अधिकारी इस पर एक्शन लेने के लिए घबरा रहे हैं सबसे बड़ी बात यह है कि शिकायत के बावजूद भी लापरवाह रोजगार सहायक के खिलाफ क्यों कार्रवाई नहीं की जा रही है ना ही जांच टीम गठित की जा रही है अब देखना होगा कि खबर प्रकाशन के बाद जिम्मेदार अधिकारी की एक्शन में आते हैं या कुंभकरण की नींद में सोए रहेंगे और जनता को लगातार शिकायत करना पड़ेगा

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।