जांजगीर-चांपा जिले के जनपद पंचायत मालखरौदा के अंतर्गत आने वाले ग्राम पंचायत नौरंगपुर के रोजगार सहायक के ऊपर आखिरकार कब होगी कार्यवाही!
November 28th, 2020 | Post by :- | 120 Views

*नौरंगपुर के रोजगार सहायक के ऊपर कब होगी कार्यवाही*

जिस ग्रामीण का पंजाब नेशनल बैंक में कोई खाता ही नहीं उस खाता में पैसा डालने की बात कह रहे हैं रोजगार सहायक

*ग्रामीण अशोक पटेल ने मालखरौदा मुख्य कार्यपालन अधिकारी की थी शिकायत दो महीने बाद भी नहीं हुई कार्यवाही*

*मालखरौदा।* जांजगीर-चांपा जिले के जनपद पंचायत मालखरौदा अंतर्गत आने वाले ग्राम पंचायत नौरंगपुर गांव में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है जिसमें रोजगार सहायक ने जिस ग्रामीण का पंजाब नेशनल बैंक में खाता ही नहीं और उस खाते में रोजगार सहायक ने पैसे डालने की बात कह रहे हैं

दरअसल पूरा मामला है कि नौरंगपुर पंचायत के रोजगार सहायक द्वारा इन दिनों लगातार लापरवाही की जा रही है जिसकी शिकायत जिम्मेदार अधिकारियों को की गई है लेकिन अब तक लापरवाह रोजगार सहायक के ऊपर कोई भी कार्यवाही नहीं होने से रोजगार सहायक के दिन बा दिन हौसले बुलंद होते जा रहे हैं अब नौरंगपुर के रोजगार सहायक का एक और नया कारनामा देखने को मिला जहां एक ग्रामीण जो की गांव में डबरी तालाब में कार्य किया था अशोक कुमार पटेल जिसका पंजाब नेशनल बैंक में कोई खाता ही नहीं है उस खाते में रोजगार सहायक ने पैसे हैं यह बात हम नहीं खुद रोजगार सहायक बता रहे हैं उनके जानकारी जबकि ग्रामीण अशोक कुमार पटेल का कहना है कि उसका पंजाब नेशनल बैंक में कोई खाता ही नहीं है और गोल मटोल जवाब दे रहे हैं रोजगार सहायक ने अभी तक किसी प्रकार से ग्रामीण के खाते में अभी पैसा नहीं डाला ग्रामीण अशोक कुमार पटेल ने मालखरौदा मुख्य कार्यपालन अधिकारी से आपनी बातों को बताया फिर लिखित में भी शिकायत दिया गया था पर इस मामले में अभी तक कार्यवाही नहीं होना समझ से परे हैं क्यों कि जिस आदमी का पंजाब नेशनल बैंक में कोई खाता ही नहीं है उसमें कैसे रोजगार सहायक पैसा डाले ग एं कैसा जवाब है जिसमें रोजगार सहायक खुद फस रहे की ग्राम पंचायत नौरंगपुर में कितना भ्रष्टाचार किया गया होगा अब एं जांच होने के बाद ही पता चल पाएगा कि कब तक होगी लापरवाह रोजगार सहायक के ऊपर कार्यवाही

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।