लखीमपुर खीरी राष्ट्रीय पुष्प कमल से शोभायमान व पौराणिकता और ऐतिहासिकता को समेटे हुए जलाशय का तहसील प्रशासन ने किया पट्टा।
November 26th, 2020 | Post by :- | 154 Views

लखीमपुर खीरी (पवन दीक्षित)26नवम्बर। विकासखंड मितौली के ग्राम पंचायत दतेली कला मैं ऐतिहासिकता और पौराणिकता को समेटे हुए राष्ट्रीय पुष्प कमल से शोभायमान बदर सुखा तालाब का मत्स्य पालन के लिए तहसील प्रशासन मितौली के द्वारा बीते माह पट्टा कर दिया गया जब ग्रामीणों को इसकी जानकारी हुई तो उनकी आस्था को ठेस पहुंची तहसील प्रशासन से बदरसुख्खा जलासय को पट्टा मुक्त करने की प्रार्थना पत्र देकर मांग की फिर भी तहसील प्रशासन के द्वारा पट्टा निरस्त न किए जाने के कारण ग्रामीणों में रोष व्याप्त है।

26 नवंबर को ग्रामीण जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचकर पहुंच जिलाधिकारी महोदय को ज्ञापन सौंपकर हिंदू रीति रिवाज व पौराणिक परंपराओं से जुड़ा हुआ तालाब जो ग्रामीणों का आस्था का प्रतीक बना हुआ है पट्टा मुक्त किए जाने को लेकर ज्ञापन सौंपा

ग्रामीणों के मुताबिक 70 – 80 साल पहले ब्रम्ह उपासक रामअवतार मिश्रा के द्वारा पांच तीर्थों से जलाकर इस तालाब में विधि विधान के द्वारा पूजा अर्चना कर के तालाब के जल में पांच तीर्थों प्रयाग राज गंगा जमुना सरस्वती गोदावरी कावेरी का जल मिलाकर इस मदरसों का तालाब को तीर्थ का दर्जा प्रदान किया था तब से इस तालाब में पित्र पक्षों में पितरों के तर्पण के लिए ग्रामीण जल देकर तालाब में पितरों के तर्पण की कामना करते हैं अंतिम संस्कार के बाद इसी तालाब में लोग स्नान आदि से निवृत्त होते है पास में बहुत पुराना विशालकाय बरगद का वृक्ष है जहां पर वट सावित्री का महिलाएं पूजन करती है

आदर्श जलाशय बदर सुखा कि मनरेगा द्वारा साफ सफाई करवाएं जाने के बाद ग्रामीणों के अथक प्रयास से हजारों की संख्या में जलाशय में राष्ट्रीय पुष्प कमल शोभायमान है आस्था का प्रतीक हुआ सौंदर्य की अनुपम छटा को समेटे हुए जहां सरकार एक और सौंदर्यीकरण को बढ़ावा दे रही है वही जनपद लखीमपुर खीरी में तहसील मितौली प्रशासन हिंदू रीति-रिवाजों और परंपराओं और राष्ट्रीय पुष्प कमल का अस्तित्व मिटाने पर तुला हुआ है। विजय मिश्रा विपिन आचार्य विश्व हिंदू परिषद, शिवम दीक्षित प्रमोद अवस्थी चक्रधर दीक्षित स्वामी जी महाराज चंद्र प्रकाश मिश्र सुभाष चंद्र मिश्र संदीप अवस्थी क्षेत्र पंचायत सदस्य चन्द्रभाल कुलदीप सिंह प्रधान प्रतिनिधि दतेली कला राजबहादुर अनुज दिक्षित अनुराग दीक्षित अतुल मिश्रा आदि लोग उपस्थित रहे

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।