रेल।रोको आंदोलन 64 वें दिन में हुआ दाखिल ,किसान जत्थेबंदी ने हरियाणा और केंद्र सरकार का फूंका पुतला ।।
November 26th, 2020 | Post by :- | 178 Views

रेल रोको आंदोलन 64 वें दिन में हुआ दाख़िल ,हरियाणा और केंद्र सरकार के फूंके पुतले ,जत्थेबंदी ने किया फैसला 2 घन्टे भी रेल ट्रैक नही होगा जाम ।
कल होगा दिल्ली को जत्था रवाना ।
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह ।
किसान मजदूर संघर्ष कमेटी पंजाब के राज्य प्रधान सतनाम सिंह पन्नू और महासचिव सरवन सिंह पंधेर ने कहा कि आई जी बॉर्डर रेंज ने व्हाट्सएप पर भेजे गए सन्देश में कहा कि जंडियाला गुरु रेलवे ट्रैक पर यात्री गाड़ियां नही गुजरेंगी ।इसलिए जत्थेबंदी ने फैसला कर कहा कि रेल ट्रैक अब 2 घन्टे नही जाम किया जाएगा ।परंतु रेल रोको आंदोलन पार्क में जारी रहेगा ।हरियाणा की खट्टर सरकार द्वारा किसानों के आंदोलन से घबरा कर हिंसा और तषदद किसान आंदोलन पर किया जा रहा है। उसके विरोध में पंजाब में राज्य स्तर पर अर्थी फूंक प्रदर्शन खट्टर सरकार और मोदी सरकार के खिलाफ किया जाएगा। किसान आंदोलन केंद्र सरकार के पांव तले किसान आंदोलन मचा देगा।
खट्टर सरकार द्वारा दिल्ली जाने पर लगाई गई रोकों के साथ खुद ट्रैफिक जाम कर लिया है ।उसके लिए जो परेशानी लोगों को खट्टर सरकार दे रही है ।उसके बारे में सवाल बनता है कि सरकारें भी रास्ता जाम करती हैं। किसानों के हक़ में दावा करने वाली कैप्टन सरकार किसान मजदूर जत्थेबंदी के खिलाफ हाईकोर्ट में मोदी सरकार के साथ मिलकर ज़ोर लगा रही है ।राज महासचिव सरवन सिंह पंधेर ,लखविंदर सिंह वरियाम ,जर्मनजीत सिंह बंडाला और रणजीत सिंह कलेरबाला की।अध्यक्षता में 100 गांवो में तरसिक्का और कत्थुनंगल ज़ोन के गांवों में तैयारियों का जायजा लिया।
कल को जत्थेबंदी द्वारा अमृतसर और तरनतारन से दिल्ली धरने के लिए जत्था रवाना किया जाएगा। किसान नेताओं ने कहा कि जंडियाला गुरु रेल रोको आंदोलन आज 64 वें दिन जारी है। आंदोलन को।संबोधित करते हुए गुरलाल सिंह पंडोरी ,सलविंदर सिंह जानियां ने कहा कि रेलवे स्टेशन की खुली ग्राउंड में आंदोलन जारी रखेंगे। यात्री गाड़ी ना गुज़रे इसलिए वालंटियर पहरेदारी करेंगे। इस मौके पर गुरमेल रेडवां ,रणजीत सिंह बल ,जरनैल सिंह,मेजर सिंह ,हरप्रीत सिंह कोटली ,वस्सन सिंह ,परमजीत सिंह ,जगतार सिंह कंग ,किशन देव ,व अन्य किसान नेताओं ने भी संबोधित किया ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।