रेल रोको आंदोलन 61 वें दिन में हुआ दाख़िल ,डी सी ,एस डी एम व अन्य अधिकारियों ने किया रेलवे स्टेशन का दौरा ,किसान जत्थेबंदी के साथ यात्री गाड़ियों को चलाने का बात रही बेनतीजा ।
November 23rd, 2020 | Post by :- | 154 Views
 पंजाब की आर्थिक नाकेबंदी के लिए केंद्र जिम्मेदार है। हम क्रोना  के नाम पर आंदोलन खत्म करने के केंद्र सरकार के फैसले का विरोध करेंगे। 61 वें दिन रेल रोको आंदोलन हुआ दाखिल ।
डी सी ,एस डी एम ,नायब तहसीलदार , और एस पी डी ने रेलवे ट्रैक का लिया जायजा ,किसान जत्थेबंदी के साथ की बातचीत ,यात्री गाड़ियों को चलाने के लिए नही मानी जत्थेबंदी ।
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
जंडियाला गुरु रेलवे स्टेशन पर रेलवे ट्रैक का जायजा लेने के लिए डी सी अमृतसर गुरप्रीत सिंह खैहरा ,एस डी एम 1 विकास हीरा ,एस पी।डी देहाती गौरव तुरा और नायब तहसीलदार अर्चना शर्मा दुपहर 12 .50पर पहुंचे।इस दौरान उन्होंने वहां धरना दे रहे किसान जत्थेबंदी के नेताओं से   यात्री मालगाड़ी चलाने के साथ साथ यात्री गाड़ी चलाने के लिए बातचीत की ।लेकिन किसान जत्थेबंदी अपनी जिद्द पर अड़े रहे और कहा कि वह केवल मालगाड़ी को ही रास्ता देंगे ।डी सी अमृतसर और अन्य अधिकारी वापिस बिना कोई फाइनल बातचीत के 2 बजे के करीब चले गए।
 पंजाब के किसान मजदूर संघर्ष समिति, पंजाब के महासचिव श्री सतनाम सिंह पन्नू ने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री के साथ आज की बैठक 25 नवंबर को आईजी बॉर्डर जोन के अनुसार होगी भी । उन्होंने कहा  कि केंद्र की मोदी सरकार आज पंजाब के लोगों की समस्याओं के लिए जिम्मेदार है। ।  मोदी सरकार कल सभी मुख्यमंत्रियों से मुलाकात करके राज्यों द्वारा कोरोना  के नाम पर लगाए गए प्रतिबंधों को स्वीकार नहीं करेगी।  सरकारें आंदोलन की छवि को धूमिल करने की कोशिश कर रही हैं। किसान नेताओं ने आगे कहा कि सरवन सिंह पंधेर  के नेतृत्व में आज अमृतसर जिले के 16 गांवों में दिल्ली आंदोलन की तैयारी की गई।  उन्होंने पहर की लड़ाई के लिए अपना मन तैयार किया और , अपने  बिस्तर, कपड़े, लंगर, ट्रॉली आदि का प्रबंध किया ।  संगठन की पहली बड़ी टुकड़ी 26 नवंबर से अमृतसर से दिल्ली के लिए रवाना होगी। लखविंदर सिंह वरियामंगल, रंजीत सिंह कलेरबाला , जरमनजीत सिंह बंडाला , सुखदेव सिंह चाटीविंड , बलदेव सिंह बग्गा और अन्य नेताओं ने तैयारी की।  आज की बैठक स्थगित कर दी गई है जो बैठक पंजाब सरकार की मांगों को लेकर थीं। जंडियाला गुरु रेल रोको आंदोलन ने आज 61 वें दिन में प्रवेश किया जो कि मांगों के हल होने तक जारी रहेगा।  इस अवसर पर इंद्रजीत सिंह कल्लीवाला, राणा रणबीर सिंह ने कहा कि संगठन के निर्णय के अनुसार केवल मालवाहक वाहनों को लाभ दिया जाएगा, केंद्र सरकार द्वारा यात्री वाहनों को रोका जा रहा है।  सुरिंदर सिंह घुड्डूवाला, मेहताब सिंह कचरभान, निर्मल सिंह पबुवाला, रणजीत सिंह खाचरवाला और साब सिंह दिन के ने सभा को संबोधित किया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।