श्रीमद्भागवत कथा का श्रवण ही मुक्ति का मार्ग : डॉ रमनीक कृष्ण
November 19th, 2020 | Post by :- | 65 Views

चंडीगढ़ (मनोज शर्मा) कार्तिक मास के पावन अवसर पर प्राचीन शिव ठाकुर द्वारा मन्दिर मनीमाजरा में आयोजित श्रीमद्भागवत कथा के प्रथम दिवस में सद्भावना दूत भागवताचार्य डॉ रमनीक कृष्ण जी महाराज ने कथा के महात्म्य का वर्णन करते हुए कहा की कलिकाल में जीव नाना प्रकार के दुखो से त्रस्त है। प्रयत्न करने पर भी मानव मन परमात्मा के चरणों में नहीं लगता। कैसे ये मन हरी भक्ति में लगे। इसका वर्णन श्रीमद्भागवत में वर्णित किया गया। राजा परीक्षित के पास अपनी मुक्ति के लिए मात्र 7 दिन का समय था सदगुरुदेव श्री परीक्षित जी महाराज ने राजा को अमृत से भी मधुर श्रीमद्भागवत कथा का श्रवण ही मुक्ति का मार्ग बताया।

इसकी महिमा का वर्णन करते हुए बताया कि जिस समय श्री शुकदेव जी महाराज राजा परीक्षित को ये कथा सुनने बैठे उसी समय देवता अमृत कलश लेकर राजा परीक्षित के पास आए और आकर कहने लगे राजन ये अमृत तुम पिलो इसके बदले कथामृत हमें देदो। परंतु राजा ने स्वर्ग के अमृत को ठुकरा कर कथा को स्वीकार किया। देवता विस्मित हो गए के जिस अमृत को प्राप्त करने के लिए भगवान श्री हरि को मोहिनी रूप बनाना पड़ा और देत्यो के संग छल करना पड़ा राजा के लिए ये भागवत उस अमृत से भी बड़ी है तो देवता ब्रह्मा जी की शरण में गए।

ब्रह्मा जी ने तराजू के एक पलड़े पर भागवत को रखा दूसरे पर अमृत परंतु भागवत स्वर्ग के अमृत पर भारी पड़ गई। ब्रह्मा जी का भ्रम दूर हुआ। की जैसे दूध को पीकर हम घी का स्वाद ग्रहण नहीं कर सकते, दूध को घी बनाने के लिए कितनी प्रक्रियाओं से होकर गुजरना पड़ता है ठीक वैसे ही वेद पुराणों का सार है श्रीमद्भागवत। ये कथा पृथ्वी पर ही सुलभ है अर्थात स्वर्ग में भागवत नहीं है इसलिए मानव को जीवन भर इस भागवत रूपी रस का पान करते रहना चाहिए। धर्म अर्थ काम व मोक्ष को प्राप्त कराने में यह पावनी कथा सर्व सामर्थ्यवान है। इसलिए इसे बार बार सुनना चाहिए।

मंदिर कमेटी मंच संचालक सुशील जैन ने बताया की आज कथा में  अत्यधिक संख्या में श्रद्धालुओं ने भाग लिया । मुख्य अतिथि के रूप में एस एच ओ मोली जागरा जुलतान सिंह रहे। मन्दिर कमेटी के प्रधान दसिंदर पाल ने बताया की कथा का आयोजन विशेष रूप से कार्तिक मास के पावन अवसर पर रखा गया। यह कथा 25 नवम्बर तक चलेगी। जिसका समय प्रतिदिन सांय 4 से 7 है।  इस अवसर पर कमेटी के सदस्य लक्ष्मी नारायण ग्रोवर , जितेंद्र गुप्ता ,शीतल डिंगरा , शिव खन्ना , किरण बाला  उपस्थित रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।