संविदा सीएचओ भर्ती परीक्षा कॉविड प्रोटोकॉल के साथ शांतिपूर्ण संपन्न: डॉ.ओला ,3040 में से 2,721 अभ्यर्थियों ने 14 केन्द्रों पर दी परीक्षा।
November 10th, 2020 | Post by :- | 160 Views

बीकानेर(मनीष)। सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी (सीएचओ) भर्ती परीक्षा मंगलवार को शांतिपूर्ण तरीके से कॉविड प्रोटोकॉल के साथ संपन्न हुई। कुल 7810 संविदा पदों के लिए राज्य के संभाग मुख्यालयों पर आयोजित परीक्षा में बीकानेर संभाग मुख्यालय पर 3,040 में से 2,721 अभ्यर्थियों ने 14 केंद्रों पर परीक्षा दी यानी कि 319 अभ्यर्थी अनुपस्थित रहे।  राज्य स्तरीय पर्यवेक्षक एवं निदेशक आरसीएच डॉ लक्ष्मण सिंह ओला, भर्ती परीक्षा के संभाग नोडल अधिकारी एवं संयुक्त निदेशक डॉ देवेंद्र चैधरी व परीक्षा कंट्रोल रूम अधिकारी सीएमएचओ डॉ बी एल मीणा अलग-अलग दल बनाकर सभी 14 परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण करते रहे। इसके साथ पुलिस प्रशासन द्वारा गठित 3 फ्लाइंग स्क्वाड भी परीक्षा के दौरान विभिन्न केंद्रों पर पहुंची और अभ्यर्थियों की छानबीन की।

डॉ.ओला ने बताया कि भर्ती परीक्षा संपूर्ण कोविड प्रोटोकॉल के अधीन शांतिपूर्ण तरीके से बिना किसी व्यवधान व कमी के संपन्न हुई है जिसके लिए समस्त टीम बधाई की पात्र है। उन्होंने बताया कि सभी अभ्यर्थियों को परीक्षा केंद्र के बाहर थर्मल स्कैनिंग व मास्क पहनाने के बाद ही प्रवेश दिया गया। परीक्षा केंद्रों के बाहर लगे ‘‘नो मास्क नो एंट्री’’ के बोर्ड  अभ्यर्थियों को कॉविड प्रोटोकॉल का संदेश देते रहे। अधिकांश अभ्यर्थी घर से मास्क पहनकर ही आए थे लेकिन सुरक्षा कारणों से उन्हें परीक्षा केंद्र के बाहर ही उतरवाया गया। स्वास्थ्य विभाग की ओर से ट्रिपल लेयर मास्क उपलब्ध करवाए गए। डॉ देवेंद्र चैधरी ने बताया कि भर्ती परीक्षा के आयोजन में जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन व शिक्षा विभाग का बेहतरीन सहयोग प्राप्त हुआ। परीक्षा केंद्रों पर लगाए गए जैमर की वजह से क्षेत्र में मोबाइल वह इंटरनेट सेवाएं बाधित रही परंतु नकल अथवा अनुचित साधनों के उपयोग की गुंजाइश समाप्त हो गई। सीएमएचओ डॉ मीणा ने बताया कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत आयुष्मान भारत योजना में अतिशीघ्र सीएचओ के पदस्थापन होने से सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में भी चिकित्सकीय सेवाएं सुदृढ़ होने की उम्मीद है।

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।