दो करोड 32 लाख रूपए की लागत से ड्रेन पर बने तीन पुलों के निर्माण कार्य का किया शुभारंभ |
November 9th, 2020 | Post by :- | 191 Views

पलवल (मुकेश कुमार हसनपुर) 08 नवम्बर :-  केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने होडल हलका में रविवार को करीब दो करोड 32 लाख रूपए की लागत से ड्रेन पर बने तीन पुलों के निर्माण कार्य का शुभारंभ किया। इस अवसर पर केंद्रीय राज्य मंत्री ने दीघोट ड्रेन की बुर्जी संख्या 3300 पर पुल के पुनर्निर्माण कार्य का शुभारंभ किया। इस पुल के निर्माण पर 56 लाख रुपए की लागत आई है।

पुल की लंबाई 62.5 फुट तथा चौड़ाई 17.5 फुट है। इस ड्रेन के द्वारा 182 क्यूसेक बरसाती पानी निकलता है। इस पुल के निर्माण से गांव पिंगोर के लोगों को आवागमन में काफी सुविधा मिलेगी।
इसी प्रकार उन्होंने दीघोट ड्रेन की बुर्जी संख्या 2200 पर पुल के निर्माण कार्य का भी शुभारंभ किया, जिस पर एक करोड़ 10 लाख रुपए की लागत बनाया गया है। इस पुल की लंबाई 72.5 फुट तथा चौड़ाई 28.2 फुट है। इस पुल के निर्माण से गांव पिंगोर, भूपगढ़, खांबी, दीघोट, बमनीखेड़ा, लिखी व हसनपुर के ग्रामीणों को आवागमन की सुविधा होगी।

केंद्रीय राज्यमंत्री ने पिंगौर ड्रेन की बुर्जी संख्या 28240 पर पुल का शुभारंभ किया, जिस पर 66 लाख रुपए की लागत आई। इस पुल की लंबाई 70 फुट तथा चौड़ाई 28.2 फुट है। इस ड्रेन के द्वारा 232 क्यूसेक बरसाती पानी निकलता है। इस पुल का निर्माण होने से गांव पिंगोरे, खांबी, भूपगढ. व कावरका के ग्रामीणों को आवागमन की सुविधा होगी।

इस अवसर पर केन्द्रीय राज्यमंत्री कहा कि गांव पिंगौर में साढ़े तीन करोड़ रूपये की लागत से एक बुस्टर बनाया जाएगा जिसमें तीन टयूबवैल लगाए जाएंगे और 13 किलोमीटर लम्बी पाईप लाईन डाली जाएगी जिससे पिंगौर के साथ-साथ बेला गांव को भी इसका लाभ मिलेगा। उन्होंने ग्रामीणों द्वारा रखी गई मांगो को पूरा करने का आश्वासन दिया।

इस अवसर पर हरियाणा भूमि सुधार आयोग के चेयरमैन एवं विधायक होडल जगदीश नायर, नायब तहसीलदार गौरव, हरियाणा कृषि विपणन बोर्ड के कार्यकारी अभियंता रमेश देशवाल, जिला अध्यक्ष चरण सिंह तेवतिया सहित संबंधित गांवों के पंच-सरपंच सहित अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।