लोगों की सुविधा के लिये निगम द्वारा इस संबंध में 22 सेंटर स्थापित किये गये है।
November 6th, 2020 | Post by :- | 138 Views

पंचकूला, 6 नवंबर ( विजय) – नगर निगम पंचकूला द्वारा परिवार पहचान पत्र बनाने का कार्य युद्धस्तर पर आज से आरंभ किया गया है। लोगों की सुविधा के लिये निगम द्वारा इस संबंध में 22 सेंटर स्थापित किये गये है। ​
इस संबंध में जानकारी देेते हुए नगर निगम के कमीशनर श्री आर. के. सिंह ने बताया कि परिवार पहचान पत्र बनाने के लिये नगर निगम के कार्यकारी अभियंता अंकित लौहान को आॅल ओवर इंचार्ज नियुक्त किया गया है जबकि निगम के इंजीनियर हरिंद्र सेठी को सहायक नियुक्त किया गया है। इस कार्यक्रम को सफलतापूर्वक करने के लिये संबंधित अधिकारी व कर्मचारियों को प्रशिक्षण भी मुहैया करवाया गया है ताकि उन्हें इस कार्य में किसी प्रकार की दिक्कत न आये। उन्होंने बताया कि प्रातः 9 बजे से सायं 5 बजे तक यह कार्य किया जायेगा और शनिवार व रविवार को अवकाश रहेगा। उन्होंने लोगों से आग्रह करते हुए कहा कि जिन्होंने अभी तक अपना परिवार पहचान पत्र नहीं बनवाया है, वे सभी प्राथमिकता के आधार पर अपने परिवार पहचान पत्र संबंधित केंद्रों पर जाकर अवश्य बनवाये।

श्री सिंह ने बताया कि परिवार पहचान पत्र बनाने की दिशा में लोगों की सुविधा के लिये विभिन्न जगहों पर ​ 22 सेंटर स्थापित किये गये है। सेक्टर-10 व सेक्टर-12 व सेक्टर-12ए में स्थित सामुदायिक केंद्र, सेक्टर-14 स्थित कन्या महाविद्यालय, सेक्टर-11 स्थित सामुदायिक केंद्र, सेक्टर-15 स्थित राजकीय कन्या सीनियर सेकेंडरी स्कूल, सेक्टर-4 स्थित सामुदायिक केंद्र, सेक्टर-17 स्थित राजकीय हाई स्कूल, सेक्टर-19 व सेक्टर-9 स्थित सामुदायिक केंद्र, सेक्टर-7 स्थित राजकीय सीनियर सेकेंडरी स्कूल, सेक्टर-1 स्थित राजकीय महाविद्यालय, सेक्टर-21 स्थित सामुदायिक केंद्र, सेक्टर-20 स्थित राजकीय संस्कृति माॅडल स्कूल, सेक्टर-20 के सामुदायिक केंद्र, बीड घग्गर के राजकीय सीनियर सेकेंडरी स्कूल में, सेक्टर-23 व सेक्टर-27 के सामुदायिक केंद्र, रामगढ के राजकीय सीनियर सेकेंडरी स्कूल, नग्गल के राजकीय प्राथमिक विद्यालय, सेक्टर-4 स्थित सीएफसी सेंटर, सेक्टर-26 स्थित सीएफसी सेंटर व सामुदायिक केंद्र में परिवार पहचान पत्र बनाये जा रहे है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।