लव जिहाद के खिलाफ बने कानून :शशांक भट्ट
November 6th, 2020 | Post by :- | 107 Views

चंडीगढ़ (मनोज शर्मा) देशभर में लव जिहाद के मामलों को बढ़ते हुए देख चंडीगढ़ युवा भाजपा के जिला नंबर -4  के अध्यक्ष शशांक भट्ट ने शुक्रवार को पंजाब के राज्यपाल मैं चंडीगढ़ के प्रशासक बी पी सिंह बदनोर को  ज्ञापन सौंपा।

इस बारे में जिला नंबर 4 के अध्यक्ष शशांक भट्ट ने बताया कि रोज अखबारों, न्यूज़ चैनेलो के माध्यम से हम देखते भी है। हर‌ियाणा वल्लभगढ़ में निकिता गोली कांड  कुछ दिन पहले का उदहारण है, कि कैसे लव जिहाद के तहत हिन्दू लड़कियों को शिकार बनाया जा रहा है।

हमने राज्यपाल से ज्ञापन के जरिए निवेदन किया है क‌ि जिस प्रकार उत्तर प्रदेश सरकार ने लव जिहाद के खिलाफ कानुन बनाने की तैयारी कर ली और यूपी के समर्थन में हरियाणा और मध्यप्रदेश सरकार ने भी लव जिहाद के खिलाफ कानुन बनने का फैसला लिया है। इस प्रकार चंडीगढ़ और पंजाब भी उसी तर्ज पर लव जिहाद के खिलाफ कानुन बनाया जाए।
हमारी मांग है क‌ि किसी मंदिर में पुजारी द्वारा बिना कागजात देखे बिना शादी करवाई जाए तो उनके खिलाफ पुलिस करवाई हो। ताकि कि हिन्दुओं बहन बेटियों के साथ ये गन्दा जिहादी खेल बंद होगा। क्योंक‌ि मुस्लिम लड़के अक्सर अपनी असलियत छुपाते कर अपना नाम बदल कर हिन्दू लड़कियों को प्रेम जाल मे फंस लेते है। इसके बाद वो बिना सचाई बताए हिन्दु बनाकर उनसे धोखे से शादी कर लेते है। शादी करने के बाद जब युवती को असलियत का पता चलता है क‌ि लड़का उसे जबरदस्ती धर्म परिवर्तन के उत्तपीड़ित करता है। जिसके कारण युवती का जीवन नर्क बन जाता है।
ऐसे कई मामले पंजाब और चंडीगढ़ में भी देखे गए हैं। जहां पर मुस्लिम लड़के लव जिहाद गंदे खेल के साथ हिन्दू लड़कियों की जिंदगी के साथ खेलते है। मंदिर में शादी करते ‌हुए मुस्लिम लड़के अपनी असलियत ना बता कर झूठे नाम पता बता कर हिन्दू लड़की से शादी करते है । मंदिर प्रबंधन दोनों की पूरी जानकारी नहीं लेते है और बिना किसी कागज और प्रमाण के दोनों की शादी करवा देते है।

हम चाहते है क‌ि चंडीगढ़ और पंजाब मे ऐसा ना हो। इसलिए हम निवेदन करते है , कि कृप्या करके शहर के सभी मंदिर और  गुरुद्वारा को गाइडलाइन्स जारी करें क‌ि शादी करवाने से पहले लड़के के कागजात, धर्म, परिवार की अच्छे से जांच पड़ताल कर ले। जिससे किसे हिन्दू बेटी की जिंदगी तबाह ना हो ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।