भगवत दयाल मौत मामला, एक साल बाद भी नहीं मिली जांच रिपोर्ट|
November 6th, 2020 | Post by :- | 57 Views
फाईल फ़ोटो

पलवल (मुकेश कुमार हसनपुर) 06 नवम्बर :- क्यूआरजी अस्पताल  सेक्टर-16 फरीदाबाद में पथरी के इलाज के दौरान डॉक्टरों की लापरवाही से 5 नवंबर 2019 को हुयी थी मौत, जिला उपायुक्त से भी कई बार लगा चुके हैं गुहार, जिला अस्पताल के सीएमओ व पीएमओ से कई बार मिल चुके हैं परिजन फरीदाबाद जिला अस्पताल द्वारा गठित नेग्लीजेंसी जांच बोर्ड में चल रही फरीदाबाद के सेक्टर-16, क्यूआरजी अस्पताल के डॉक्टर प्रबल रॉय, डॉक्टर संजय कुमार व उनकी टीम के द्वारा ईलाज में लापरवाही से मरीज (भगवत दयाल) की मौत मामले में लभगभ एक साल का समय बीतने के बाद भी अभी तक कोई फाईनल रिर्पोट न मिलने के कारण परिजनों में रोष हैं। पीडि़त परिजन कई बार जिला अस्पताल के चक्कर लगा कर परेशान हैं हर बार कुछ ना कुछ बहाना बनाकर मामले को टाल दिया जाता हैं। फरीदाबाद जिला अस्पताल द्वारा गठित नेग्लीजेंसी जांच बोर्ड द्वारा अभी तक फाइनल रिपोर्ट न देना कही न कही बोर्ड के ऊपर भी सवालिया निशान खड़ा करती है। इस मामले में परिजनों द्वारा एक लिखित ज्ञापन केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर, परिवहन मंत्री मूल चंद शर्मा, पलवल विधायक दीपक मंगला को भी दे चुके हैं।

गौरतलब है कि 1 नंबर 2019 को भगवत दयाल, श्याम नगर, पलवल निवासी अपनी पथरी के ऑपरेशन के लिए फरीदाबाद के सेक्टर-16, क्यूआरजी अस्पताल में गये थे जिनका डॉक्टर प्रबल रॉय व उनकी टीम ने ऑपरेशन किया था। ऑपरेशन में डॉक्टरों ने गालब्लेडर तो निकाल दिय पर पथरी नली में फंस जाने की बात कही। बाद में मरीज की तबीयत खराब हो जाने के बाद डॉक्टरो ने भगवत दयाल की ओपन सर्जरी कर डाली जिसके बाद मरीज वेंटिलेटर पर चला गया। अस्पताल प्रबंधन और डॉक्टर से पूछने के बाद भी मरीज के विषय में नहीं बताया गया। 5 नवंबर 2019  शाम को डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया गया था। मामले में फरीदाबाद जिला अस्पताल द्वारा गठित नेग्लीजेंसी जांच बोर्ड में क्यूआरजी अस्पताल के डॉक्टर प्रबल रॉय व उनकी टीम पर फिलहाल अभी जांच चल रही है। हरियाणा मैडिकल कौंसिल के आदेश के बाद भी अभी तक जांच अधूरी हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।