पटवारी एवं कानूनगो एसोसिएशन हरियाणा प्रदेश ने सढौरा से विधायक रेनू बाला के ऑफिस में पहुंचकर दिया ज्ञापन
November 4th, 2020 | Post by :- | 52 Views

यमुनानगर,(सुरेश अंसल)। जिले भर के पटवारी एवं कानूनगो एसोसिएशन हरियाणा प्रदेश ने सढौरा से विधायक रेनू बाला के ऑफिस में पहुंचकर समाजसेवी इंजीनियर ऋषि पाल को ज्ञापन सौंपकर उनकी बात सरकार तक पहुचाने की अपील की। पटवारी एवं कानूनगो ने कहा आज जोखिम भरी परिस्थितियों में पटवारी कानूनगो दिन-रात हरियाणा प्रदेश में मेहनत और लगन से अपने कार्य को कर रहे हैं और जोखिम पूर्ण कार्य को भी करते रहते हैं। गांव गांव में खेतों में जाकर किसानों को जागरूक करना कि पराली ना जलाएं तथा पूरी जमीन का नक्शा कपड़े का तैयार करना आदि अनेक महत्वपूर्ण कार्य करने पड़ते हैं उसके बावजूद भी हमारी सैलरी अन्य विभागों की अपेक्षा बहुत ही कम दी जाती है । जबकि हरियाणा सरकार का मानना है कि हम योग्यता के अनुसार हर एक विभाग को सैलरी देते हैं। हमारी योग्यता भी स्नातक तक है और डेढ़ वर्ष का कोर्स 6 महीने की ट्रेनिंग के बाद हमें नौकरी पर रखा जाता है । उसके बाद भी आज राजस्व पटवारी की सैलरी 25500 है। जबकि मंडी सुपरवाइजर, स्नातक
35400, गोदाम कीपर, स्नातक 35400 आंगनवाड़ी सुपरवाइजर स्नातक 35400 एक्साइज इंस्पेक्टर स्नातक 35400 टक्सशेन इंस्पेक्टर 35400 फूड एंड सप्लाई इंस्पेक्टर 35400 टी जी पी स्नातक एवं 1 वर्ष का कोर्स 44900 तक सैलरी दी जाती है ।जबकि हमारी सैलरी इन सभी महकमों के अनुसार बहुत कम है और हमारी योग्यता भी स्नातक है और डेढ़ वर्ष का कोर्स भी है। पटवारी व कानूनगो सभी ने कहा कि आज हमारे साथ भाजपा की सरकार व जे जे पी की सरकार भेदभाव पूर्ण रवैया अपना रही है ।जिससे हमें आज काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। क्योंकि हमारी सैलरी बहुत कम है ।और काम सरकार बहुत ज्यादा ले रही है। विधायक रेनू बाला जी की तरफ से मौके पर समाजसेवी इंजीनियर ऋषि पाल जी ने ज्ञापन लिया और कहा कि आने वाले समय में विधानसभा सत्र में सबसे पहले आपकी मांग को प्रमुखता से विधानसभा में विधायक रेनू बाला जी के द्वारा उठाया जाएगा। और हर संभव जितना भी हो सके आपके मान सम्मान के लिए कांग्रेस पार्टी आपकी आवाज को बुलंद करेगी ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।