रेल।रोको आंदोलन 41 वें दिन में हुआ दाखिल ,23 नवंबर को पंजाब के मुख्यमंत्री के साथ हुई मीटिंग ।
November 3rd, 2020 | Post by :- | 284 Views
रेल रोको आंदोलन 41 वें दिन में हुआ दाख़िल ,5 नवंबर के बंद को सफ़ल बनाने के लिए औरतें भी बड़ी गिनती में होंगी शामिल । मुख्यमंत्री के साथ 23 नवंबर को होगी मीटिंग ।

जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
किसान मज़दूर सँघर्ष कमेटी पंजाब का 4 मेंबरी वफद जिसमें राज्य प्रधान सतनाम सिंह पन्नू ,महासचिव सरवन सिंह पंधेर ,जसबीर सिंह पिद्दी ,सुखविंदर सिंह सभरा अटॉर्नी जनरल के साथ मीटिंग करने के लिए चंडीगढ़ रवाना हुए  गुरबचन सिंह चब्बा ने बताया कि 5 नवंबर के बंद को सफ़ल बनाने के लिए 42 स्थानों पर जाम लगाने के लिए 10 जिलों की पहुंची रिपोर्ट के अनुसार अमृतसर ,तरनतारन ,फिरोज़पुर ,फाजिल्का ,जलालाबाद ,मोगा ,गुरदासपुर ,हरगोबिंदपुर ,जलन्धर ,कपूरथला ,जिलों समेत भारत के राष्ट्रीय बंद को  12 से 4 बजे तक जाम कर तीन किसान विरोधी ऑर्डिनेंस रद्द करना की मांग की जाएगी। जंडियाला गुरु में रेल रोको आंदोलन को।संबोधित करते हुए हरप्रीत सिंह सिधवां ,,इंद्रजीत सिंह कल्लीवाल ,और रणबीर सिंह ठठा ने कहा कि  केंद्र की मोदी सरकार ने मालगाड़ीयो को रोककर देश धरोही होने का सबूत दिया है। पंजाब की जरूरतों को केंद्र सरकार द्वारा एक हथियार के तौर पर प्रयोग कर किसान मज़दूर आंदोलन को बदनाम किया जा रहा है ,जबकि माल गाड़ियों के लिए रेल ट्रैक पहले से ही खुले हुए हैं ।
किसानों के वफद की पंजाब सरकार के कैबिनेट मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ,सुखबिंदर सिंह।सुख सरकारिया के साथ हुई और कैप संदीप सन्धु के साथ हुई ।जिसमें कोई भी फाइनल निर्णय नही हो पाया है और 2.30बजे एडवोकेट जनरल पंजाब अतुल नंदा की रिहायश पर किसान नेताओं की मीटिंग हुई जिसमें मांगो के दस्तावेज पूरे कर सौपना को बात हुई ।इसके बाद ही पंजाब सरकार द्वारा फाइनल निर्णय लिया जाएगा। किसान नेताओ को रेलवे ट्रैक जंड गुरु में चल रहे धरने के मामले के बारे में विचार विमर्श करने को कहा गया। मीटिंग में मानी हुई मांगों को लागू करने के लिए किसान नेताओं की 23 नवंबर को 2.30 बजे पंजाब भवन में मुख्यमंत्री के साथ होगी। इसके इलावा किसान नेताओं ने पंजाब के डी जी पी दिनकर गुप्ता से भी मुलाकात की ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।