विभागीय निर्देशों अनुसार प्रथम एन.जी.ओ. के साथ तालमेल बिठाते हुए आंगनवाड़ी वर्कर के माध्यम से घर-घर जाकर बच्चों को शिक्षा दी जा रही है।
November 2nd, 2020 | Post by :- | 92 Views

अम्बाला,(अशोक शर्मा)
जिला अम्बाला में महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा अतिरिक्त मुख्य सचिव अमित झा एवं निदेशक श्रीमती रेणू फुलिया के निर्देशों की पालना करते हुए जिला कार्यक्रम अधिकारी, महिला एवं बाल विकास श्रीमती बलजीत कौर ने आंगनवाड़ी वर्कर के साथ अपने कार्यालय में चर्चा करते हुए रिमोर्ट लर्निंग कार्यक्रम के तहत घर-घर शिक्षा देने हेतू प्रेरित किया। उन्होंने बताया कि आंगनवाड़ी वर्करों द्वारा जिले की 1213 आंगनवाड़ी केन्द्रों में 3-6 के बच्चों को घर-घर जा कर रिमोट लर्निंग के तहत शाला पूर्व शिक्षा (Pre School education) दिलवाई जा रही हैै। कोविड-19 के दौरान 1213 आंगनवाड़ी केन्द्रों के सभी लाभार्थियों को घर-घर जाकर आंगनवाड़ी वर्कर के माध्यम से कच्चा राशन बंटवाया गया। परन्तु इस दौरान 3-6 वर्ष के बच्चे शिक्षा से वंचित हो रहे थे। जिन्हें विभागीय निर्देशों अनुसार प्रथम एन.जी.ओ. के साथ तालमेल बिठाते हुए आंगनवाड़ी वर्कर के माध्यम से घर-घर जाकर बच्चों को शिक्षा दी जा रही है। यह शिक्षा जिलों भटठो तथा उन एरिया में भी दी जा रही है। जहां पर वर्कर द्वारा बच्चों के साथ थोड़ी मस्ती थोड़ी पढ़ाई थीम के अन्तर्गत हर रोज एक विषय अनुसार स्कूल पूर्व शिक्षा दी जा रही है। जिसमें बच्चे खेल-खेल में अनौपचारिक शिक्षा ग्रहण कर रहें हैं। कर्ल बुक में रंग भरना सिखाया गया तथा खेल-खेल में बच्चों को कमीज के बटन लगाना सिखाया गया। इसके साथ ही साथ क्ले का प्रयोग करते हुए आकृतियां बनाना सिखाया गया। रिमोर्ट लर्निंग प्रोग्राम के तहत कोविड-19 की हिदायतों के अनुसार मास्क, सैनेटाईजर, सोशल डिस्टेन्सिंग का ध्यान रखा गया।
सहायक कृषि अभियंता ने बताया कि जिन किसानो ने फसल अवशेष प्रबंधन का उपयोग स्ट्रॉ बेलर द्वारा पराली से गाँठ बना कर किया है, ऐसे किसानों को इस कार्य के लिए प्रोत्साहन के रूप मे 50 रूपये प्रति क्विंटल या 20 क्विंटल प्रति एकड़ पर 1000 रूपये प्रोत्साहन राशि दी जायेगी। किसान पराली की बेल बनाकर बचने से लाभ मिलेगा और पराली का सही उपयोग होने से आगजनी की घटनाओं मे भी कमी होगी। हरियाणा सरकार की इस पहल से किसानों का होसला भी बढ़ेगा और हरियाणा प्रदेश मे आगजनी की घटनाओं को शून्य करने मे भी सहायता मिलेगी। जिला मे हर किसान को यह प्रोत्साहन राशि प्रदान की जा सके इसके लिए जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी अम्बाला को पत्र के जरिये यह अनुरोध किया गया है कि अपने अधीनस्त सभी खंड विकास पंचायत अधिकारी के माध्यम से पंचायत स्तर तक किसानो को यह जानकारी पहुंचाएं। इसके लिए विभागीय पोर्टल www.agriharyana.gov.in व www.agriharyanacrm.com पर किसानो द्वारा पंजीकरण किया जाना है ताकि अधिक से अधिक किसानो द्वारा दिये गये विवरण अनुसार कृषि विभाग द्वारा गठित कमेटी द्वारा जाँच करके प्रोत्साहन राशि वितरित करने की कार्यवाही समय पर की जा सके। जिला कार्यकारिणी के अध्यक्ष एवं उपायुक्त ने बताया कि पूरे अंबाला मे जिन किसानो ने स्ट्रॉ बेलर द्वारा पराली से गाँठ बनाई है वो किसान अपने गांव के ग्राहक सुविधा केंद्र से विभागीय पोर्टल पर पंजीकरण करके सरकार कि योजना का लाभ उठाएँ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।