अज्ञात शव को बोरे में डालकर फेंकने के मामले का हुआ खुलासा (तीन आरोपी गिरफ्तार)
October 31st, 2020 | Post by :- | 116 Views

जयपुर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । बताया गया गया है कि कुछ रुपयों के लिए बहु के मुंहबोले भाई ने 55 साल के व्यक्ति की हत्या कर दी। इसके बाद लाश को कट्टे में डालकर साथियों के साथ सीतापुरा में सड़क किनारे डाल गया। लाश मिलने के करीब 30 घंटे में ही 3 आरोपियों को सांगानेर सदर थाना पुलिस ने पकड़ लिया। गिरफ्तार आरोपी चाणढोली गांव सवाई माधोपुर निवासी तेजसिंह गुर्जर (21) मृतक की बहू का मुंहबोला भाई है। वहीं असलम खान (19) और अभिषेक उर्फ गोलू (21) भी उसी के गांव के रहने वाले हैं। आरोपियों ने घर में ही घनश्याम वैष्णव की हत्या की, फिर कट्टे में लाश को बंद करके स्कूटी पर ले गए। तीनो आरोपी 6 दिन पहले मृतक के घर आये थे। घनश्याम के बेटे बहू गांव चले गए थे। इस दौरान आरोपी तेज सिंह ने घनश्याम के मोबाइल में एक पेमेंट एप में देखा कि खाते में 1.91 लाख रुपए हैं। उसे और उसके साथियों को लालच आ गया। आरोपी गोलू ने तेजसिंह से कहा कि मोबाइल मेरे पास ले आओ मैं रकम निकाल लूंगा। तीनों आरोपियों ने घनश्याम से मोबाइल छीनने की योजना बनाई थी। इसके तहत घनश्याम जब ड्यूटी पर साइकिल से जाता था तो तेज सिंह और असलम उसका पीछा करते थे। फोन पर बात करते समय मोबाइल छीनने की फिराक में थे। लेकिन वह मोबाइल नहीं छीन पाए और फिर हत्या करके ही मोबाइल लेने की साजिश रची। एडि. डीसीपी अवनीश कुमार शर्मा ने बताया कि घनश्याम के बेटे बहू तेजसिंह को खाना बनाने की जिम्मेदारी देकर गए थे। 25 अक्टूबर को तेजसिंह और असलम घनश्याम के घर आए। सबने खाना खाया और सो गए। दोनों आरोपियों ने उठकर घनश्याम का गला दबाकर हत्या की। मृतक का मोबाइल गोलू को दे दिया। फिर लाश को कट्टे में डाला और एक दोस्त की स्कूटी पर लेकर सीतापुरा में सड़क किनारे डाल गए। आरोपी तेजसिंह हत्या के अगले दिन मृतक के बेटे के साथ घनश्याम को ढूंढने का नाटक करता रहा। पुलिस को झूंठी कहानी सुनाई की घनश्याम फोन पर कहासुनी करते हुए घर से निकला था। थानाधिकारी हरिपाल सिंह ने बताया कि आरोपियों ने कट्टे में शव सड़क पर डाल दिया था। कुत्तों ने कट्टा फाड़ दिया तब लाश मिली। इसके बाद पुलिस ने मृतक के मोबाइल की डिटेल निकाली, आस पास के करीब 40 लोगों से पूछताछ की। पड़ोसियों ने कहा कि ना घनश्याम की तेज आवाज आई, ना वह घर से निकला। तब पुलिस को तेजसिंह पर ही शक गया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।