पानी की दरें कम करने के मुद्दे पर नगर निगम की बैठक मात्र छलावा, पार्षद खामियाजा भुगतने के लिए रहें तैयार – फाॅस्वेक
October 30th, 2020 | Post by :- | 75 Views

चंडीगढ़ ( मनोज शर्मा) फेडरेशन ऑफ सेक्टर्स वेल्फेयर एसोसिएशनस ऑफ चंडीगढ़ (फाॅस्वेक) के बैनर तले चंडीगढ़ की सभी वेल्फेयर एसोसिएशनस द्वारा विगत 19 अक्टूबर को नगर निगम के ऑफिस के बाहर जोरदार प्रदर्शन किया गया था जिसे कई राजनैतिक दलों और ट्रेड यूनियनस ने अपना समर्थन दिया था। इससे पार्षदों पर जोरदार दबाव बना जिसके चलते वे 29 अक्टूबर को हुई नगर निगम की बैठक में पानी के रेट कम करने के लिए एजेंडा लेकर आए।

फाॅस्वेक के चेयरमैन बलजिंदर सिंह बिट्टू ने कहा कि बैठक में पार्षदों ने जिस प्रकार इस गंभीर मुद्दे को हल्के में लेते हुए चर्चा की और फैसला लिया, यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। बी.जे.पी. के पार्षदों ने रिवाइजड एजेंडा पारित तो किया परंतु अंतिम फैसला प्रशासन पर छोड़ दिया। क्यों पानी के बड़े हुए रेट वापस लेने का अंतिम फैसला इसी बैठक में नहीं लिया गया, जैसा कि पानी के रेट बढ़ाते समय किया गया था। बिट्टू ने कहा कि चंडीगढ़वासी पार्षदों की ड्रामेबाजी को जान गए हैं।
वहीं फाॅस्वेक के मुख्य प्रवक्ता पंकज गुप्ता ने कहा की कांग्रेसी पार्षदों द्वारा सदन से वॉक-आउट करना मात्र छलावा है और उन्हें मीटिंग में पूरे समय तक बैठकर इस फैसले का विरोध दर्ज करवाना चाहिए था। पंकज गुप्ता ने कहा कि पहले तो पार्षद लोगों के हितों के खिलाफ फैसले लेते हैं और विरोध होने पर यू-टर्न लेते हैं। पार्षदों के दोगलेपन को देख-देखकर चंडीगढ़ की जनता ऊब चुकी है और अगले साल होने वाले नगर निगम के चुनावों में उन्हें इसकी भारी कीमत चुकानी होगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।