जिला रैडक्रॉस सोसायटी द्वारा किया गया सडक़ सुरक्षा व फस्र्ट एड जागरूकता सेमिनार का आयोजन|
October 25th, 2020 | Post by :- | 108 Views

पलवल (मुकेश कुमार हसनपुर) 25 अक्टूबर :- भारतीय रैडक्रॉस सोसाइटी एवं सैंट जॉन एम्बुलेंस (इंडिया) राष्ट्रीय मुख्यालय एवं राज्य मुख्यालय चंडीगढ के निर्देशन में जिला रैडक्रॉस सोसाइटी एवं जिला सैंट जॉन एम्बुलेंस केंद्र पलवल ने 15 अक्टूबर से 24 अक्टूबर तक आठ दिवसीय सडक़ सुरक्षा नियमों की पालना तथा फस्र्ट एड जागरूकता सेमिनार का आयोजन पुराना कोर्ट परिसर पलवल में किया गया था।

जिला प्रशिक्षण अधिकारी महेश मलिक ने बताया कि इस प्रशिक्षण सेमिनार में कोविड-19 संक्रमण की हिदायतों को मद्देनजर रखते हुए 30 युवाओं को ही रजिस्टर्ड किया गया था। इस सेमिनार का मुख्य उद्देश्य था कि सडक़ पर लापरवाही से वाहन चलाते हुए कोई दुर्घटना न हो। उन्होंने सेमिनार में सडक़ सुरक्षा नियमों की पालना हेतु अभिभावकों से आह्वïान किया कि वे अपने नाबालिग बच्चों को वाहन चलाने से रोके। उन्होंने लेन में वाहन चलाने, राइट साइड से ओवरटेक करने, दोपहिया वाहन पर हेलमेट का लॉक करते हुए इस्तेमाल करना, चौपहिया वाहन में सीट बेल्ट का प्रयोग, हाई बीम लाइट का प्रयोग कम से कम करने, दुर्घटना स्थल पर मौके पर आम जन मौजूद हो तो तुरंत आपातकाल वाहन को बुलाने के लिए 100, 101, 108, 1033 पर फोन करें और इमरजेंसी वाहन के पहुंचने तक घायल को आवश्यकता अनुसार फस्र्ट एड उपलब्ध कराने के लिए युवाओं को जागरूक किया। राष्ट्रीय राजमार्ग पर वाहन चलाते समय हाई स्पीड वाहन कम से कम 70 मीटर तथा भारी वाहन 30 मीटर का डिस्टेंस बनाकर रखें ताकि सभी सुरक्षित रहें।

प्रवक्ता फस्र्ट एड बिक्रम सिंह यात्री तथा नीतू सिंह ने फस्र्ट एड एक्ट, फस्र्ट एड के उद्देश्य, हड्डी टूटने, घाव होने, सांप के काटने, जहर पीने, बच्चे के द्वारा सिक्का निगलने, रक्तदान, जलने, सदमा होने, ह्रदयघात होने की स्थिति में मोके पर फस्र्ट एड देने करने की विस्तृत जानकारी दी।
जिला प्रशिक्षण अधिकारी ने सेमीनार के दौरान बताया कि दुर्घटना में घायल तथा किसी भी जानलेवा बीमारी से पीडि़त को सांस न आने और बेहोशी की हालत में पीडि़त पर तुरन्त सीपीआर विधि से 30 बार चेस्ट कम्प्रेशन तथा दो बार मुंह से मुंह के द्वारा रेस्क्यू सांस देना सुनिश्चित करें, जिसके बारे में सभी प्रतिभागियों को प्रयोगात्मक तरीके से अभ्यास कराया गया। इस सेमीनार के दौरान संरक्षक डॉक्टर प्रशांत गुप्ता ने सभी प्रतिभागियों को  कोविड-19 संक्रमण से बचाव हेतु बार-बार हाथ धोने, मास्क लगाने, दो गज दूरी अपनाने, आरोग्य सेतु एप्पलीकेशन को अपने मोबाइल फोन में डाउनलोड करने के लिए जागरूक किया। सचिव विकास कुमार ने कहा कि इस प्रकार के सेमिनारों का आयोजन समय-समय पर होने से आमजन को जागरूक किया जा सकता है और किसी बडे हादसे को होने से बचाया जा सकता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।