उपायुक्त ने व्यपारियो को दिया आश्वासन 2013-14 जी एस टी केसों के निपटारे हेतु मिलेगी एक वर्ष की राहत
October 20th, 2020 | Post by :- | 223 Views

चंडीगढ़ (मनोज शर्मा) शहर के व्यापारियों की समस्याओं से संबंधित प्रधानमंत्री को लिखे पत्रों के संदर्भ में चंडीगड़ उद्योग व्यपार मण्डल  के एक प्रतिनिधि मंडल ने भाजपा प्रदेश प्रवक्ता  कैलाश चंद और शहर के  युवा व्यापारी नेता  अवि भसीन के नेतृत्व में शहर के उपायुक्त श्री मंदीप  सिंह बराड़ से मुलाकात की ।

प्रतिनिधिमंडल में कैलाश जैन ,  लघु उद्योग भारती के उपाध्यक्ष अवि भसीन, चंडीगढ़ स्टील फर्नीचर एसोसिएशन के प्रधान नरेश कुमार , प्रोग्रेसिव ट्रेडर वेलफेयर अस्सोसीएसन के प्रधान विरेन्द्र गुलेरिया आदि व्यापारी शामिल थे ।
उक्त जानकारी देते हुए अवि भसीन ने बताया कि व्यापारी नेताओं से बातचीत में उपायुक्त मंदीप सिंह बराड़ ने जानकारी दी कि व्यपारियों की  मांग को ध्यान में रखते हुए शहर के व्यपारियो के वर्ष 2013-2014 के जीएसटी केसों के निपटारे के लिए समय सीमा एक वर्ष बढ़ाने के लिए प्रपोजल केंद्र सरकार को भेज दी गई है जबकि डीम्ड असेसमेंट संबंधी प्रपोजल बनाकर शिघ्र ही  केंद्र सरकार को दी जाएगी।
बैठक में उपयुक्त ने बूथ मालिकों की  लम्बे अर्से से लम्बित बूथों की ऊपरी मंजिल बनाए जाने की मंजूरी दिए जाने की मांग  और इस पर श्री मंदीप  सिंह बराड़  ने भी सहमतीं जताई और कहा जल्द ही इस मुँदे पर चर्चा की जाएगी  व कमर्शियल प्रॉपर्टी पर से ट्रांसफर फीस के रूप में वसूल की जा रही अन अरनेड प्रॉफिट (unearned profit) को समाप्त किए जाने पर सकारात्मक रवय्या अपनाते हुए गंभीरता से विचार करने का आश्वासन दिया।
इसके अलावा डीसी महोदय ने व्यपारियो की मांग पर त्योहारी सीजन के दौरान इंफोर्समेंट स्टाफ द्वारा सख्ती बरते जाने में कुछ ढील दिए जाने की मांग पर भी सकारात्मक रवैय्या अपनाने का  आश्वासन भी दिया।
सभी व्यापारी नेताओं ने उनकी बात को ध्यान से सुनने व व्यापारियों की समस्याओं को समझने के लिए डीसी मंदीप सिंह बराड़ का धन्यवाद किया व आशा व्यक्त की कि चंडीगढ़ प्रशासन इसी प्रकार से व्यापारियों  की समस्याओं को हल करने में सहयोग करता रहेगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।