गहलोत सरकार का अभियान ‘आवाज’ देखिये कैसे रोकेगा राजस्थान में महिला अपराध
October 20th, 2020 | Post by :- | 111 Views

जयपुर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । राज्य में जिले के सभी एएसपी और डीएसपी अपने क्षेत्राधिकार में महीने में कम से कम चार बार महिला सुरक्षा संबंधी थानास्तरीय एवं पंचायत स्तरीय अपनी बात कार्यक्रमों में भाग लेंगे। राजस्थान में पुलिस का ऑपरेशन आवाज महिला अपराधों में कमी, लैंगिक समानता लाने और महिला सुरक्षा सुनिश्चित करने में मदद करेगा। ऑपरेशन आवाज का उद्देश्य महिला अपराधों के खिलाफ कार्रवाई करने के साथ ही न्याय दिलाने के लिए युवाओं को भी जागरूक करना है। इस अभियान का कलेक्टर प्रकाश राजपुरोहित,एसपी कुंवर राष्ट्रदीप ने कलेक्ट्रेट सभागार में किया। इसके लिए जिले के सभी एएसपी, सभी डीएसपी एवं थानाधिकारियों को निर्देश दिए। एसपी ने बताया कि प्रदेश के एडीजी सिविल राइट्स एवं एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग के आदेश की पालना में अजमेर पुलिस विशेष अभियान ऑपरेशन आवाज (एक्शन अगेंस्ट वुमन रिलेटेड क्राइम एंड अवेयरनेस फॉर जस्टिस) चलाएगी। इसके तहत अभियान के पहले महीने में जिले के पुलिस अधिकारी 15 अक्टूबर से 12 नवंबर तक पुलिस की ओर से जिला प्रशासन व गैर प्रशासनिक संगठनों, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता/सहायिका,आशा सहयोगिनी, एएनएम आदि से समन्वय स्थापित करेगी। नुक्कड़ नाटकों सहित अनेक तरह के प्रचार प्रसार के जरिए महिला अत्याचार, दुष्कर्म व अन्य अपराधों को रोकने, महिलाओं में सुरक्षा संबंधी कानूनी जागरूकता लाने एवं युवाओं को नारी सम्मान के महत्व को समझाया जाएगा। ऑपरेशन आवाज के तहत पुलिस अधिकारी क्षेत्र की परिस्थितियों और जरुरत के अनुसार बालिकाओं/महिलाओं की सुरक्षा संबंधी योजना चलाने के साथ ही नवाचार भी कर सकेंगे। जिले के सभी एएसपी और डीएसपी अपने क्षेत्राधिकार में महीने में कम से कम चार बार महिला सुरक्षा संबंधी थानास्तरीय एवं पंचायत स्तरीय अपनी बात कार्यक्रमों में भाग लेंगे। इसमें 15 से 30 वर्ष तक के युवक-युवतियों को ज्यादा से ज्यादा शामिल करते हुए जागरूकता के लिए संवाद कार्यक्रम के जरिए आमजन को महिला अत्याचार संबंधी कानून एवं महिला सुरक्षा एवं सम्मान के लिए जागरुक करेंगे। थानाधिकारी अपने थाना क्षेत्र में बनाए पुलिस मित्रों, ग्राम रक्षकों एवं सीएलजी सदस्यों के सहयोग से इसके लिए प्रयास करेंगे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।