23 वें दिन रेल रोको आंदोलन बाबा बंदा सिंह बहादुर के 350 वर्ष जन्म दिवस को समर्पित ।
October 16th, 2020 | Post by :- | 193 Views
किसान रेल रोको आंदोलन बाबा बंदा सिंह बहादुर के 350 वर्ष के जन्म दिवस को समर्पित ,

23 अक्तूबर को बड़े एकत्र कर अमृतसर, तरनतारन ,फिरोज़पुर ,फाजिल्का ,जलन्धर ,कपूरथला और हुशियारपुर में मोदी ,अंबानी ,अडानी के फूंके जायेगें पुतले ।
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
किसान मज़दूर सँघर्ष कमेटी पंजाब का रेल रोको आंदोलन आज 23वें दिन में दाखिल हो गया ।देवीदासपुरा में चल रहे रेल रोको आंदोलन का आज का दिन बाबा बन्दा सिंह बहादुर के 350 वर्ष के जन्मदिवस को समर्पित किया गया है और बाबा बंदा सिंह बहादुर जी के जीवन से सीख लेते हुए कॉरपोरेट घरानों और मोदी के खिलाफ तीखे संगर्ष करने का अहद लिया गया ।इस अवसर पर राज्य सचिव सरवन सिंह पंधेर ने कहा कि हरियाणा में खट्टड़ की सरकारी द्वारा किसान नेताओं के खिलाफ नाजायज़ 302 ,307 आई पी सी के तहत पुलिस द्वारा मामले दर्ज किये गए जबकि अंबाला में भाजपा के समर्थक भरथ सिंग 75 वर्ष का हार्ट अटैक होने से ,वह ट्रैक्टर से गिर गए और उनकी मौत हो जिसकी वीडियो भी उनकी पास है। वहां पर किसानों के साथ कोई भी सार्थक मीटिंग नही की गई।
पंजाब सरकार द्वारा चल रहे आंदोलन में संगरूर ,बुढलाडा ,बरनाला में हुई शहादतों का सरकार को 20 लाख रुपये मुआवजा परिवार को देने के लिए कहा ,परिवार के एक मेंबर को सरकारी नौकरी और सरकारी व गैर सरकार कर्ज़ माफ़ करने को कहा ।किसान नेताओं ने कहा कि 23 अक्तूबर को रणजीत एवेन्यू अमृतसर में औरतों का बड़ा इकट्ठ किया जाएगा। इसी तरह डी सी कार्यलय तरनतारन ,फिरोज़पुर ,ज़ीरा ,गुरु हरसहाय ,फाजिल्का शहर ,हुशियारपुर ,टांडा में मोदी ,अंबानी औऱ अडानी के पुतले फूंके जाएंगे। इस मौके पर किसान नेता हरप्रीत सिंह सिधवां ,गुरबचन सिंह चब्बा ,लखविंदर सिंह डाला ,राज सिंह ताज़ेचक्क ,साहिब सिंह ,कुलवंत सिंह ,प्रगट सिंह किरलगड़ ,अमरीक सिंह चविंडॉ ,किरपाल सिंह बचीविंड ,सकत्तर सिंह कोटला ,बलदेव सिंह कलेर ,अमरपाल सिंह रोमी ,नरिंदर सिंह ,गुरदेव सिंह ,हरपिंदरपाल सिंह चमियारी ,दविंदर सिंह खतराय क्लान ,मनजिंदर सिंह ख़ासा ,भूपिंदर सिंह मालुवाल ,प्रताप सिंह हमज़ा ,बलकार सिंह देवीदासपुरा ,सेवा सिंह पंधेर  जोगा सिंह बेगोवाल ,मंगजीत सिंह सिधवां ,सलविंदर सिंह डल ,कुलदीप सिंह व अन्य हाज़िर थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।