श्री धाम वृंदावन में श्री गुरु कार्ष्णि कृपा धाम के तत्वावधान में चल रही है अष्टोत्तरशत श्रीमद् भागवत कथा
October 12th, 2020 | Post by :- | 77 Views

मथुरा,(राजकुमार गुप्ता)श्री धाम वृंदावन में श्री गुरु कार्ष्णि कृपा धाम के तत्वावधान में चल रहीअष्टोत्तरशत श्रीमद् भागवत कथा के |
तृतीय दिवस में उत्तर प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा भागवत कथा सुनने के लिए उपस्थित हुए भागवत पोथी का पूजन व्यास पूजन कर कहा की 18 पुराणों मैं भागवत पुराण सबसे उत्तम है भागवत कथा सुनने से सबकी मनोकामनाएं पूर्ण तो होती ही हैं लेकिन मुक्ति को भी यह कथा हमें देती है और कहा भागवत में ब्रज मंडल का विशेष महत्व है तो हमारे ब्रजबासी होने के नाते हमारा फर्ज और दायित्व है कि भगवान श्रीकृष्ण ने जहां जहां लीलाएं की है पूरे बृज मंडल में संपूर्ण ब्रजमंडल को पुराने स्वरूप में स्थापित करना है हमारी सरकार इस कार्य में अग्रसर है भागवत भगवान से आशीर्वाद मांगा कि हमें आशीर्वाद दें सभी ब्रजबासी कि हम बृज मंडल को और सजा संवार सकें

कथा में व्यास आसन पर विराजमान कार्ष्णि नागेन्द्र महाराज ने कहा कि भागवत साक्षात भगवान का वांगमय स्वरूप है वृत्रासुर की कथा को सुनाते हुए कहा त्रास दायक मन की वृत्ति ही वृत्रासुर है यह वृत्तियां हर जीव को दुख देती रहती हैं वृत्ति अंतर मुक्त होने से जीव का परमात्मा से मिलन होता है वृत्ति की बहिर्मुखता मनुष्य को ही नहीं देवताओं को भी त्रास देती रहती हैं मन एवं नेत्र दोनों को एक साथ रखने से मन की चंचलता समाप्त होती है बहिर्मुखी वृत्ति को ज्ञानरूपी बज्र से काटो नष्ट करो ज्ञानवल के सहारे विषय वृत्तियों को अर्थात आवरण व्यक्तियों को ऐसे वृतासुर को मारो तभी इंद्रियों के अधिष्ठाता देवों को शांति मिलेगी हमारे मन को प्रभु के चरणों में जोड़ने का एक ही साधन है वह है श्रीमद् भागवत कथा इसीलिए हम अपने जीवन में कथा लाएं कथा ही जीवन हो ऐसा भाव रहना चाहिए इस अवसर पर अरविंद पांडे शिवांशभाई मिश्र छैला बिहारी शर्मा सचिन गुप्ता अंकुश गर्ग जतिन तरुण कुलविंदर आदित्य शर्मा मनु गौड आदि लोग उपस्थित रहे

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।