खेल मैदान में खिलाड़ी मानसिक मजबूती हासिल कर पा सकता है लक्ष्य -संदीप सिंह
October 12th, 2020 | Post by :- | 153 Views

पंचकूला।(मनीषा) सूरमा संदीप सिंह खेल राज्यमंत्री के ओहदे पर पहुंच गए हैं, लेकिन उनकी दिनचर्या खेल व खिलाड़ियों से शुरू होती है। खेल मैदान के बाहर संदीप सिंह खिलाड़ियों को फिटनेस और मानसिक रूप से मजबूत करने का गुर मंत्र हमेशा देते हैं। यही नहीं खेल मंत्री होते हुए भी वे कोच से भी सीधा संवाद करते हैं ताकि खिलाड़ियों की परेशानी को समझा जा सके।
खेल मंत्री संदीप सिंह की दिनचर्या शुक्रवार को भी खेल मैदान से शुरू हुई। उन्होंने पंचकूला स्थित ताऊ देवीलाल स्टेडियम में खिलाड़ियों से सीधा संवाद किया तो वर्चुअल संवाद के जरिये प्रदेश भर के कोच व युवा खिलाड़ियों से बातचीत की। उन्होंने खिलाड़ियों को मानसिक रूप से स्वस्थ रहने का गुर मंत्र दिया।
खेल मंत्री ने कहा कि खेल के मैदान में खिलाड़ियों का मानसिक रूप से मजबूत होना बेहद आवश्यक है, क्योंकि तभी वे लक्ष्य को हासिल कर पाएंगे। चिंता में न तो खिलाड़ी अपने खेल पर ध्यान केंद्रित कर पाएगा और न ही लक्ष्य प्राप्ति तक पहुंच सकेगा। इसलिए मैदान में उतरने से पहले खिलाड़ी मानसिक रूप से सुदृढ़ हो तभी वह बेहतरीन प्रदर्शन कर सकता है। हार-जीत खेल का हिस्सा है, लेकिन यदि हर खिलाड़ी यह संकल्प लेकर मैदान में उतरेगा तो उसकी टीम हमेशा जीत दर्ज करेगी। इससे खेल भावना प्रबल होगी और खेल के प्रति रूचि भी पैदा होगी।
श्री सिंह ने वर्चुअल संवाद के दौरान प्रदेश भर के कोचों को आह्वान् किया कि अभ्यास या मैच से पहले खिलाड़ियों को मानसिक रूप से मजबूत करने के लिए बातचीत करें और यदि किसी खिलाड़ी को कोई परेशानी है तो वे उसे सांझा करें और उसका हल करने का प्रयास करें ताकि खिलाड़ी का खेल के प्रति लगाव कम न हो।
खेल मंत्री ने राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेल चुके खिलाड़ियों को भी आह्वान किया कि वे खेल के मैदान पर पहुंचकर जूनियर खिलाड़ियों को खेल के गुर मंत्र दें ताकि वह बेहतरीन प्रदर्शन करने के साथ सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी भी बन सकें। राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेल चुके खिलाड़ी जूनियर खिलाड़ियों के प्रेरणा स्त्रोत होते हैं, इसलिए उनकी प्रेरणा को बढ़ाने के लिए सप्ताह में कम से कम एक दिन जरूर खिलाड़ियों से रूबरू हों।ये आरोपी के खिलाफ अभियोग दर्ज कर कार्यवाही की गई।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।