मंडलायुक्त दिप्ती उमाशंकर व उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा ने शुक्रवार अम्बाला छावनी नई अनाज मंडी, बराड़ा अनाज मंडी व साहा अनाज मंडी में निरीक्षण व मौके पर निर्देश दिये।
October 9th, 2020 | Post by :- | 56 Views
मंडलायुक्त दिप्ती उमाशंकर व उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा ने शुक्रवार अम्बाला छावनी नई अनाज मंडी, बराड़ा अनाज मंडी व साहा अनाज मंडी में निरीक्षण व मौके पर निर्देश दिये।

अम्बाला:(अशोक शर्मा)
मंडलायुक्त दिप्ती उमाशंकर व उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा ने सबसे पहले अम्बाला-दिल्ली नेशनल हाईवे पर अम्बाला छावनी अनाज मंडी में जाकर सम्बन्धित अधिकारियों से अब तक कितनी धान आ चुकी है और कितनी लिफ्टिंग हो चुकी है, इस बारे जानकारी ली वहीं किसानों को दिए जाने वाले गेट पास के बारे में भी वास्तविक जांच की। डीएमयू राधे श्याम शर्मा ने मंडलायुक्त को अवगत करवाते हुए बताया कि यहां पर हैफड व डीएफएससी द्वारा निर्धारित मापदंडों के तहत धान खरीद का कार्य सुचारू रूप से किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हैफड द्वारा आज तक 9120 मीट्रिक टन धान की खरीद की जा चुकी है जबकि 4192 मीट्रिक टन धान का उठान भी हो चुका है। इसी प्रकार डीएफएससी द्वारा 6403 मीट्रिक टन धान की खरीद व 3475 मीट्रिक टन उठान हो चुका है। मंडलायुक्त ने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये कि 24 घंटे के अंदर धान की खरीद का उठान सुनिश्चित होना चाहिए। इसलिए वे बेहतर समन्वय के साथ कार्य करें।
इस मौके पर किसान रामेश्वर सिंह व हरपाल सिंह ने धान खरीद से सम्बन्धित अपनी समस्या बताई। उपायुक्त ने डीएमयू को निर्देश दिये कि वे सम्बन्धित किसान की जो समस्या है उसका आज ही समाधान करना सुनिश्चित करें, साथ ही उन्हें यह भी कहा कि आढ़तियों के माध्यम से 25 प्रतिशत गेट पास दिए जा सकते हैं। इसलिए वे इस बात का ध्यान रखें कि आढ़तियों द्वारा जिस किसान की फसल तैयार होकर मंडी में आ चुकी है और उसे गेट पास दिया जाना है वे उसे दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि किसानों को किसी प्रकार की परेशानी का सामना नहीं करने दिया जायेगा। मंडी में सभी बेहतर व्यवस्थाएं की गई हैं। कुछ किसानों ने पंजाब से आकर यहां पर धान बेचने का पोर्टल संबधी रजिस्ट्रेशन शुरू न होने की बात कही। इस पर उपायुक्त ने कहा कि अम्बाला शहर व नन्यौला में रजिस्ट्रेशन शुरू हो चुका है और यहां पर यह समस्या दूर हो जायेगी। पंजाब के किसान भी यहां आकर अपनी धान बेच सकते हैं। मंडलायुक्त व उपायुक्त ने नमी मापक यंत्र के माध्यम से मंडी में पड़ी धान की नमी व कांटे पर तुलवाकर बोरियों की भी जांच की। उन्होंने बताया कि 19 प्रतिशत नमी तक धान खरीदी जा सकती है। इसलिए किसान अपनी फसलों को सुखाकर ही मंडी में लाएं। प्रशासन द्वारा किसानों व आढ़तियों को हर संभव सहायता उपलब्ध करवाने का काम किया जायेगा।
इसके उपरांत मंडलायुक्त व उपायुक्त ने बराड़ा अनाज मंडी में जाकर वहां की व्यवस्थाओं का जायजा लेते हुए मौके पर मौजूद किसानों से बातचीत की। किसानों ने मंडी में सभी सुविधाएं बेहतर है इस बारे उन्हें बताया। उन्होंने उपायुक्त को बताया कि किसान की धान की फसल का रजिस्टे्रशन पोर्टल पर एक कनाल के माध्यम से किया गया है और बीघे की समस्या आ रही है जिसके कारण गेट पास में दिक्कत आ रही है। उपायुक्त ने किसानों की इस समस्या को सुनते हुए मौके पर मौजूद डीएमयू को निर्देश दिये कि किसानों की इस समस्या का तुरंत समाधान करें और उनकी फसलों का पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करवाते हुए तुरंत गेट पास दिलवाएं। आढ़तियों ने पेमैंट संबधी समस्या भी उपायुक्त के समक्ष रखी, उपायुक्त ने कहा कि अबकी बार आढ़तियों व किसानों की सहमति के बाद ही उनके खाते में पेमेंट भेजने का काम किया जा रहा है यदि फिर भी कोई दिक्कत है तो उसे दूर करने का काम किया जायेगा। यहां पर भी उन्होंने नमी मापक यंत्र के माध्यम से धान की नमी जांची।
निरीक्षण के क्रम में मंडलायुक्त व उपायुक्त अशोक कुमार ने साहा अनाज मंडी में भी जाकर धान खरीद के कार्यों का जायजा लिया। मंडी प्रधान जसबीर जस्सी व अन्य लोगों ने यहां पर सभी व्यवस्थाएं ठीक हैं इस बारे बताया और कहा कि शुरू में कुछ समस्या थी लेकिन अब ठीक चल रहा है। मंडलायुक्त ने किसानों को कहा कि यदि फिर भी उन्हें किसी प्रकार की समस्या आती है तो वह मार्किट कमेटी सचिव व सम्बन्धित अधिकारियों को बताकर अपनी समस्या का समाधान करवा सकते हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।