नवम्बर माह के पहले पखवाडे़ में शुरू किया जाएगा, चीनी मिलों गन्ने की पिराई का कार्य।
October 9th, 2020 | Post by :- | 187 Views

पंचकूला।(मनीषा) सहकारिता मंत्री डा. बनवारी लाल ने कहा कि चीनी मिलों गन्ने की पिराई का कार्य नवम्बर माह के पहले पखवाडे़ में शुरू किया जाएगा। इसके लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है ताकि किसानों को किसी प्रकार दिक्कतें पेश न आएं।
सहकारिता मंत्री हैफेड स्थित कार्यालय में प्रदेश भर के चीनी मिल प्रबंधक निदेशकों के साथ बैठक लेकर समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि किसानों के गन्ने की राशि का भुगतान भी समय हो। इसके लिए आवश्यक प्रबंधक किए जाए। इसके अलावा गन्ना पिराई के समय कोई दिक्कत न आए और कार्य पूरे सीजन तक सुचारू ढंग से चले। इसके लिए प्रबंधक सभी आवश्यकताएं पूरी करें ताकि सीजन के दौरान पिराई कार्य में बाधा न आए।
सहकारिता मंत्री ने सभी प्रबंधकों को निर्देश दिए कि सहकारी चीनी मिलों के फालतु खर्चे को कम करें और चीनी मीलों को घाटे से उभारने के भी सार्थक प्रयास करें। उन्होंने कहा कि चीनी मिलें  में  लाने वाले किसानों का गन्ना भी समय पर ट्राली से खाली करवाएं और गन्ने की पेमेंट सही चाहिए इससे किसानों की आमदनी बढेगी। इसके अलावा किसानों को गन्ने के साथ अन्य फसलों  पर ध्यान देना चाहिए।
डा. बनवारी लाल ने कहा कि जिन मिलों के किसानों के गन्ने का बकाया है उसका तुरन्त प्रभाव से भुगतान करें। इसके अलावा यह भी सुनिश्चित करें कि उनके क्षेत्र में आने वाले किसानों का अप्रैल माह के अंत तक मिलों में पिराई के लिए आ सके। उन्होंने प्रदेश की चीनी मिलों की आमदनी बढाने के लिए पानीपत व करनाल की मिलों में चीनी व शीरे की बिक्री भी पारदर्शी तरीके से सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।
सहकारिता मंत्री ने कहा कि शाहबाद की चीनी मिल में ईफेरनाॅल प्लांट का कार्य शुरू करने के लिए तकनीकि टीमें समय समय पर कार्यो की समीक्षा करें ओर ताकि कार्य समय ओर चरणबद्व तरीके से पूरा हो सके।  इसके अलावा महम, पलवल व  कैथल की चीनी मिलों में गुड़ बनाने की युनिट लगाने का कार्य भी तत्परता के साथ करें ताकि गुड उत्पादन कार्य शीघ्र शुरू किया जा सके। बैठक में उन्होंने सीजन में गन्ना पिराई कार्य समय पर पूरा करने के लिए बधाई दी ओर आगामी सीजन को सही चलाने की शुभकामनाएं दी।
बैठक में एसीएस संजीव कौशल, महानिदेशक डी के बेहरा सहित प्रदेशभर की चीनी मिलों के प्रबंधक मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।