पुलिस चौकी इंचार्ज गहरी मंडी और उसके साथियों पर थर्ड डिग्री टॉर्चर के लगाए आरोप ,पीड़ित की पत्नी ने लगाई इंसाफ की गुहार ।
October 8th, 2020 | Post by :- | 412 Views
पुलिस चौकी इंचार्ज गहरी मंडी पर थर्ड डिग्री टार्चर के लगे आरोप ,पीड़ित के परिवार ने लगाई इंसाफ की गुहार ।

जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
गांव भंगवां निवासी सुखचैन कौर पत्नी गुरमुख सिंह ने बताया कि उसका पति आटा चक्कियों की रिपेयर कर अपने परिवार का पेट पालता है ।गाँव भंगवां मे डिपू होल्डरों द्वारा गेहूं के  आबंटन में गड़बड़ी  को लेकर उसने इसके खिलाफ आवाज़ उठाई थी ।
जिसका खामियाजा उसे पुलिस द्वारा अवैध रूप से थर्ड डिग्री टार्चर का सहना पड़ता ।
पीड़िता ने गहरी मंडी चौकी इंचार्ज ए एस आई तजिंदर सिंह और उसके साथी सिकंदर सिंह ,राजविंदर सिंह ,मेजर सिंह और राज कुमार (सभी पुलिस कर्मी ) पर गंभीर आरोप लगाते हुए पीड़िता में कहा कि उसे गुरसाहिब सिंह नामक व्यक्ति मिला औऱ उसे कहने लगा कि अगर उसके पास कोई रिकॉर्ड है तो दिखाए ।इसी बात को लेकर दोनों के बीच बहस हुई ।फिर इन्होंने मेरे पति के खिलाफ झूठी शिकायत दे दी ।
तभी मेरे पति गुरमुख सिंह को ए एस आई तजिंदर सिंह और उसके साथियों ने गुरुद्वारा गांव भंगवां के पास से उठा लिया ।उसने कहा कि उक्त कर्मियों और पुलिस चौकी इंचार्ज गहरी मंडी ने उसके साथ बहुत टार्चर किया ।उसके गुप्तांग में जूते की नोक डाल कर वीडियो भी बनाई गई । पीड़ित को इलाज के लिए सरकारी हस्पताल मानांवाला दाखिल कराया गया है ।उसके पति को चौकी इंचार्ज ने कहा कि अगर उसने इसकी शिकायत की तो उसको इसका फल भुगतने को तैयार रहे ।पीड़ित परिवार द्वारा अपने जान माल की रक्षा और इस मामले की निष्पक्ष जांच के लिए एस एस पी देहाती अमृतसर औऱ डी जी पी पंजाब को इंसाफ़ की गुहार लगाई है ।
इस मामले को लेकर जब चौकी इंचार्ज गहरी मंडी ए एस आई तजिंदर सिंह से बात की गई तो उन्होंने ने अपने ऊपर लगे आरोपों को।सिरे से खारिज करते हुए कहा कि गांव दो पक्षों का झगड़ा हुआ था जिसके चलते दोनों पक्षों की 107 51 सी आर पी सी के तहत मामला दर्ज किया गया है ।
वहीं डी एस पी जंडियाला गुरु सुखविंदरपाल सिंह ने कहा कि उनको इस मामले की जानकारी नही है ।वह इस मामले को देखेंगे जो भी आरोपी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई होगी ।
फ़ोटो  कैप्शन :,सुखचैन कौर अपने पति गुरमुख सिंह के साथ मानांवाला हस्पताल में ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।