गली-मोहल्लों के बाद अब हाईवे दूधिया रोशनी से हुआ जगमग : शीला राठी
October 8th, 2020 | Post by :- | 166 Views

बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ (गौरव शर्मा)

-नगर परिषद चेयरपर्सन और अधिकारियों ने लगवाई शहर से निकलते हाईवे पर स्ट्रीट लाइट

-दुकानदारों और व्यापारियों ने जताया चेयरपर्सन का आभार

बहादुरगढ़। सरकार अगर विकास के प्रति दृढ़ संकल्पित हो तो धरातल पर उसे उतारने में देर नहीं लगती है। यही हुआ है शहर बहादुरगढ़ में। नगर परिषद की चेयरपर्सन शीला राठी ने
अंधियारे को दूर करने का जो वादा किया है, वो लगातार पूरा हो रहा है। नगर परिषद की ओर से जहां शहर के गली मोहल्लों को स्ट्रीट लाइट लगाकर रोशन कर दिया गया है। वहीं अब शहर से निकलते हाईवे को भी दुधिया रोशनी से जगमग कर दिया गया है।
नगर परिषद चेयरपर्सन शीला राठी का कहना है कि हाईवे पर सेक्टर 9 मोड़ बाईपास से लेकर पूरे शहर में रोहतक दिल्ली मार्ग पर स्ट्रीट लाइट लगा दी गई है। अब रात के समय लोगों और शहरवासियों को इन मार्ग से आने जाने कोई परेशानी नहीं होगी। नगर परिषद चेयरपर्सन शीला राठी का कहना है कि शहर को साफ सुथरा बनाने और रोशनी से जगमग करने में कोई कमी नहीं छोड़ी जाएगी।
शहर की गलियां अब रोशनी से जगमग हैं। हर मोहल्ले के साथ साथ सड़को पर स्ट्रीट लाइट लगाई गई हैं। नगर परिषद चेयरपर्सन शीला राठी का भी शहर वासियों के साथ साथ दुकानदारों और व्यापारियों ने सड़कों को रोशन कराने पर आभार जताया है। उन्होंने बताया कि यहां सिर्फ लाइट्स ही नहीं लगाई जा रही हैं, बल्कि शहर के प्रत्येक वार्ड में विकास कार्य गलिया, नालियां बनाई जा रही है। सावर्जनिक स्थानों के साथ साथ पार्को में पौधरोपण किया गया है। इससे न केवल पर्यावरण सुधरेगा बल्कि शहर में हरियाली भी आएगी।

खुश है आम जनता
नगर परिषद के इस कार्य पर शहर के लोगों ने प्रसन्नता जाहिर की है। लोगों का कहना है कि जब से नगर परिषद के चेयरपर्सन शीला राठी बनी है, जनता के हित में लगातार काम किए जा रहे हैं। नगर परिषद के सराहनीय प्रयास से सभी सड़को और चौक चौराहों पर स्ट्रीट लाइट और बहुत सारी सुविधाएं मुहैया कराई हैं। मुख्य सड़कों के अलावा गली-मोहल्लों में भी स्ट्रीट लाइट लगी हैं। जिससे पता ही नहीं चल रहा कि यहां कभी अंधेरा था।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।